" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

गुरुवार, 10 जनवरी 2013

राजीव आनंद के मुक्तक


सफल होने की हवस में
नैतिक मर्यादा छोड़ दी
सूंदर काया का फायदा उठाया
सफलता के कई कृतिमान तोड़ दी




शरीर एक धर्मशाला
आत्मा एक मुसाफिर
अन्तर्यात्रा एक तैयारी
चल देना किस्मत हमारी




कर्म में वासना न रहे तो
जीवन साधना बन जाती है
जनकल्याण में अपना कल्याण
परम उपलब्धि जीवन की कहलाती है




बछड़े ने अपनी माँ को
जोर से पूकारा माँ.....
बिरजुआ की मइया सब छोड़कर
दौड़ी गोहाल चली आयी





तारों से भरा आकाश
चावल दानों से भरा हो जैसे थाल
टूट रहा है एक तारा
मैं भी तोडूंगा उपवास




बैलों के गले में टंगी
घंटियों से आती आवाज
सूरमयी शाम की आगाज
डूबते सूरज को सूनाती साज




सभी इंजीनियर चाहते है बनना
कई हो जाते है इसमें नाकाम
घर लौट कर क्या कर पाते है
ये असफल इंजीनियर दूसरा कोई काम




रेल के धड़धड़ाती आवाज में
मुझे एहसास हो आया
माँ की छाती में
इन दिनों होता धक-धक





पहले और अब
गोरैया के आवाज में है दर्द
पहले गोरैया गाती थी
अब गोरैया कराहती है




पैसे की अक्सर ही
खूशी से अदावत होती है
पैसे से जब जेब भर जाती है
दिल से खूशी नदारत होती है





क्यों भले आदमी को
ईश्वर इतना कष्ट देता है ?
ईमानदारी से जीने का
क्या यही सिला मिलता है ?