" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

शुक्रवार, 11 जनवरी 2013

उदयभानु हंस के मुक्तक

जन्‍म- २ अगस्‍त १९२६, प्रकाशित कृतियाँ-'उदयभानु हंस रचनावली' दो खंड (कविता) दो खंड (गद्य)।
 

एक
हम शूल को भी फूल बना सकते हैं
प्रतिकूल को अनुकूल बना सकते हैं
हम मस्त वो माँझी हैं जो मँझधारों में
हर लहर को भी कूल बना सकते हैं।

दो
मैं सूर्य की हर धुँधली किरण बदलूँगा
बदनाम हवाओं का चलन बदलूँगा
रंगीन बहारों को मनाने के लिए
मैं शूल का तन फूल का मन बदलूँगा।

तीन
तुम एकता का दीप जलाकर देखो,
हाथों में "तिरंगे" को उठाकर देखो
चल देगा सकल देश तुम्हारे पीछे
इक बार कदम आगे बढ़ाकर देखो।

चार
अब और नहीं समय गँवाना है तुम्हें,
दुख सह के भी कर्त्तव्य निभाना है तुम्हें
यौवन में बड़ी शक्ति है यह मत भूलो
हर बूँद से तूफान उठाना है तुम्हें।

पाँच
पंछी ये समझते हें चमन बदला है,
हँसते हैं सितारे कि गगन बदला है।
शमशान की कहती है मगर खामोशी,
है लाश वही सिर्फ कफ़न बदला है।

छह
यदि कंस का विष-अंश अभी बाकी है,
तो कृष्ण का भी वंश अभी बाकी है।
माना कि सभी ओर अँधेरा छाया,
पर ज्योति का कुछ अंश अभी बाकी है।

सात
हिन्दी तो सकल जनता की अभिलाषा है,
संकल्प है, सपना है, सबकी आशा है।
भारत को एक राष्ट्र बनाने के लिए,
हिन्दी ही एकमात्र सही भाषा है।

आठ
हिन्दी में कला ही नहीं, विज्ञान भी है,
राष्ट्रीय एकता की ये पहचान भी है।
हिन्दी में तुलसी, सूर या मीरा ही नहीं,
उसमें रहीम, जायसी, रसखान भी है।

नौ
जब कवि का हृदय भाव-प्रवण होता है,
अनुभूति का भी स्रोत गहन होता है।
लहराने लगे बिन्दु में ही जब सिन्धु,
वास्तव में वही सृजन का क्षण होता है।

दस
जब भाव के सागर में ज्वार आता है,
अभिव्यक्ति को मन कवि का छटपटाता है।
सीपी से निकलते हैं चमकते मोती,
संवेदना से ही सृजन का नाता है।