" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

गुरुवार, 10 जनवरी 2013

दिनेश त्रिपाठी 'शम्स'

जन्म-०३ जुलाई १९७५,मंसूरगंज,बहराइच,उत्तर प्रदेश,आखों में आब रहने दे (गजल संग्रह ), जनकवि बंशीधर शुक्ल का खडी बोली काव्य (शोध प्रबंध ), इमेल – yogishams@yahoo.com.http://dinesh-tripathi.blogspot.ae/

(एक)
आईने पर यक़ीन रखते हैं ,
वो जो चेहरा हसीन रखते हैं .
 
आंख में अर्श की बुलन्दी है ,
दिल में लेकिन ज़मीन रखते हैं .
दीन-दुखियों का है खुदा तब तो ,
आओ हम खुद को दीन रखते हैं .
जिनके दम पर है आपकी रौनक ,
उनको फिर क्यों मलीन रखते हैं .
 
विषधरों के नगर में रहना है ,
हम विवश होके बीन रखते है .    
ये सियासत की फ़िल्म है जिसमें ,
सिर्फ़ वादों के सीन रखतें हैं
(दो)
एक झूठी मुस्कुराह्ट को खुशी कहते रहे ,
सिर्फ़ जीने भर को हम क्यों ज़िन्दगी कहते रहे .
लोग प्यासे कल भी थे हैं आज भी प्यासे बहुत ,
फिर भी सब सहरा को जाने क्यों नदी कहते रहे .
हम तो अपने आप को ही ढूंढते थे दर-ब-दर ,
लोग जाने क्या समझ आवारगी कहते रहे .
अब हमारे लब खुले तो आप यूं बेचैन हैं ,
जबकि सदियों चुप थे हम बस आप ही कहते रहे .

रहनुमाओं में तिज़ारत का हुनर क्या खूब है ,
तीरगी दे करके हमको रोशनी कहते रहे .
(तीन)

एक लम्हा गुजार कर आये ,
या कि सदियों को पार कर आये .
 
जीत के सब थे दावेदार मगर ,
एक हम थे कि हारकर आये .
 
आईने सब खिलाफ़ थे लेकिन ,
पत्थरों से क़रार कर आये .

ज़िन्दगी एक तुझसे निभ जाये ,
खुद से धोखे हज़ार कर आये .

आज़ ही हम बज़ार में पहुंचे ,
आज ही हम उधार कर आये .
 
अपने दामन को खुद रफ़ू करके ,
खुद की फिर तार-तार कर आये .
 
तेरी महफ़िल में‘शम्स’ जो आये ,
ग़म की चादर उतार कर आये .
(चार)

ख़्वाहिश-ए-दिल हज़ार बार मरे ,
पर न इक बार भी किरदार मरे .
 
प्यार गुलशन करे है दोनो से ,
न तो गुल और न ही ख़ार मरे .
 
चल पड़े तो किसी की जान मरे ,
न चले तो छुरी की धार मरे .
 
ताप तन का उतर भी जाये मगर ,
कैसे मन पर चढा बुखार मरे .
 
ज़िन्दगी तू है अब तलक ज़िन्दा ,
मौत के दांव बेशुमार मरे .