" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

गुरुवार, 10 जनवरी 2013

डॉ अजय जनमेजय के मुक्तक


  • बंदगी बेटियां , आरती बेटियाँ |
    धन कि किंचित नहीं लालची बेटियाँ |
    प्यार ही चाहतीं बस विरासत में ये |
    प्यार की जौहरी , पारखी बेटियाँ ||

  • डर गईं खुद कि बढ़ी परछाइयों से बेटियां |
    लड़ रहीं हैं रोज ही तन्हाइयों से बेटियां |
    गढ़ गयीं वो शर्म से खामोश लव चेहरा उदास |
    बाप की छोटी बड़ी रुसवाइयों से बेटियां ||

  • चाहतीं है आपका बस नेह बेटियाँ |
    आप पर करतीं कहाँ संदेह बेटियाँ |
    मौत के अंतिम क्षणों में दूर देश में |
    भूल कब पातीं है अपना गेह बेटियाँ ||

  • बेटियाँ गिरजा शिवाला इस सदी में |
    त्याग कि हैं पाठशाला इस सदी में |
    बन रहीं हैं बेटियाँ फिर आजकल क्यूं |
    मौत का निर्मम निवाला इस सदी में ||

  • आपके जो शब्द नफरत में सने हैं |
    बेटियों के भाव देखो अनमने हैं |
    आप अपनी असलियत भी देख लीजे |
    बेटियाँ घर को मिलीं ज्यों आइने हैं |

  • बेटियाँ निश्छल हमेशा ही रहीं हैं |
    शुद्ध गंगाजल हमेशा ही रहीं हैं |
    कुछ कहो पर बेटियाँ माँ -बाप की तो |
    आँख का काजल हमेशा ही रहीं हैं ||

  • बेटियाँ ज्यों आ रही महकी हवाएँ |
    बेटियाँ ज्यों सामने चहकी दिशाएँ |
    कैद फिर वो चारदीवारी में क्यों हैं |
    पूछतीं हैं बेटियाँ कुछ तो बताएं ||

  • आजकल हैं बेकली में बेटियाँ क्यों |
    प्यार कि विरूदावली में बेटियाँ क्यों |
    भ्रूण हत्या "ओ" दहेजी भेडियों से |
    मौत कि अंधी गली में बेटियाँ क्यों ||