" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

गुरुवार, 10 जनवरी 2013

डा. दिनेश त्रिपाठी `शम्स’ के मुक्तक


नाम – डा. दिनेश त्रिपाठी `शम्स’शिक्षा – एम . ए.(हिन्दी), बी. एड., पीएचडी.(हिन्दी) सम्प्रति – वरिष्ठ प्रवक्ता (हिन्दी) जवाहर नवोदय विद्यालय , बलरामपुर , उत्तर प्रदेश पुस्तकें – (१) जनकवि बंशीधर शुक्ल का खडी बोली काव्य (शोध प्रबंध ),मीनाक्षी प्रकाशन,नयी दिल्ली (२) आखों में आब रहने दे (गजल संग्रह )


 
हमारे दिल में क्या है ये किसी से कह नहीं सकते .

व्यथा जो मिल रही है वो मगर हम सह नहीं सकते .
हमारे प्यार को समझो न समझो आप की मर्जी .
मगर ये जान लो हम आपके बिन रह नहीं सकते
+++++++++
तुम्हारे बिन अकेली ज़िंदगी खैरात लगती है .
कंटीला दिन लगे नागिन-सी मुझको रात लगती है .
तुम्हारे साथ बीते उन पलों की याद की खुशबू ,
मेरे जीवन की सबसे कीमती सौगात लगती है .
++++++++++
ग़ज़ल के एक रिसाले-सी तुम्हारी याद आती है .
अँधेरे में उजाले-सी तुम्हारी याद आती है .
इबादत का बड़ा ही पाक एक अहसास जागता है ,
किसी मस्जिद-शिवाले-सी तुम्हारी याद आती है .
+++++++++++
मधुर भावों के कोई तार हिल जाएँ तो मत कहना .
नयन को इन्द्रधनुषी स्वप्न मिल जाएँ तो मत कहना .
यकीनन प्यार ये मेरा किसी दिन रंग लाएगा ,
तुम्हारे मन में भी कुछ फूल खिल जाएँ तो मत कहना .
++++++++++++
कोई आतंक रचता है कोई कोहराम लिखता है .
जिसे देखो वही नफरत का बस पैगाम लिखता है .
सृजन के छंद लिखता ही नहीं अब रहनुमा कोई ,
व्यथा के गीत ही केवल वतन के नाम लिखता है .
++++++++++
नहीं अब तक किया वो सब करूँगा आप की खातिर .
हर इक झूठी रिवायत से लडूंगा आप की खातिर .
मेरे जीने का मकसद आप है बस आप हैं केवल ,
जिया हूँ आप की खातिर मरुंगा आप की खातिर .
++++++++++
नयी उम्मीद देता है नया विश्वास देता है .
मेरे मन को निरंतर खुशनुमा अहसास देता है .
मेरे जीवन में अब तक सिर्फ सूनापन था पतझर का ,
तुम्हारा साथ फूलों से भरा मधुमास देता है .
++++++++++
जिधर देखिये जंग ही जंग है अब .
चढ़ा सब प नफरत क ही रंग है अब .
मुहब्बत का अहसास दिखता नहीं है ,
नज़रिया सभी का हुआ तंग है अब .
++++++++++
कभी विध्वंस के आगे न अपना सर झुकायेंगे .
सृजन के गीत गाये हैं सृजन के गीत गायेंगे .
अँधेरे हैं सघन पर हौसले भी कम नहीं मेरे ,
ज़माने में सदा उम्मीद का सूरज उगाएंगे .
++++++++++
ज़माने की हकीकत को बताने आ गया हूँ मैं .
नयी उम्मीद का दीपक जलाने आ गया हूँ मैं .
बजाओ दोस्तों स्वागत में मेरे तालियाँ जमकर ,
यहाँ इस मंच पर कविता सुनाने आ गया हूँ मैं .
++++++++++
देखिये मझधार में अपना सफीना हो गया .
आज के हालात में दुश्वार जीना हो गया .
स्वार्थ के माहौल में चालें घिनौनी चल रहा ,
आदमी इस दौर का कितना कमीना हो गया .
++++++++++
तेरी उल्फत की नगरी में हमारा अब बसेरा है .
हमारे पास जो कुछ है वो सब कुछ सिर्फ तेरा है .
तेरे रहमो-करम पर हैं हमारी अब सभी खुशियाँ ,
नज़र डाले उजाला है नज़र फेरे अँधेरा है .
++++++++++
हमारी भावनाओं में छुपा हर मर्म भारत है .
ये तन जिसको समर्पित है वो प्यारा कर्म भारत है .
समाहित है हमारे मन की हर पहचान इसमें ही ,
हमारी जाति भारत है हमारा धर्म भारत है .
++++++++++
उम्र भर जिसको संभालूं ऐसा खुशखत लिख गया .
कुछ नहीं है झूठ सब कुछ तो हकीकत लिख गया .
है तभी से रूह में दीवानगी छाई हुई ,
वो हमारे दिल के कागज़ पर मुहब्बत लिख गया .
++++++++++
जिन्हें प्यार देना था डर दे रहे हैं .
कड़ी धूप अब तो शज़र दे रहे हैं .
ये आया है कैसी तरक्की का मौसम ,
मसीहा हैं जो वो ज़हर दे रहे हैं .
++++++++++
सतत लक्ष्य की ओर चलना न आया .
गिरे किन्तु गिरकर संभलना न आया .
ज़माना बदलने में हैं व्यस्त लेकिन ,
हमें खुद को अब तक बदलना न आया .
++++++++++
हथेली पे सरसों उगाने चले हैं .
असंभव को संभव बनाने चलें हैं .
जो खुद की बुराई नहीं देख पाए ,
बुराई को जड़ से मिटाने चलें हैं .
++++++++++
जिन्दगी को बोझ जैसा समझकर ढोते नहीं हैं .
लड़ रहे कठिनाइयों से समय को खोते नहीं हैं .
आदमी बस वही हैं जो दर्द में रोते नहीं हैं .
आंसुओं से ज़िन्दगी के प्रश्न हल होते नहीं हैं .
**********
करेगा जोड़ने की बात पर अलगाव ही देगा .
प्रगति के नाम पर हमको महज ठहराव ही देगा .
करेगा भाषणों में जिक्र मरहम का सदा लेकिन ,
हमारे देश का नेता हमें बस घाव ही देगा .
*************
अभी आँखों में सपनों का खुला आकाश बाकी है .
अभी तो प्रीति का खुद पर अटल विश्वास बाकी है .
न विचलित हो तू मेरे मन शरद के दिन अगर बीते ,
बचाकर रख हर एक ख्वाहिश अभी मधुमास बाकी है .
***********
सूर्य के हाथों पराजित रात होगी .
बस उजालों की यहाँ बरसात होगी .
रक्त से अभिषेक होगा जब धरा का ,
तब नए युग की कहीं शुरुआत होगी .
*******
आस ही खास है जिन्दगी के लिए .
तृप्ति आधार मन की खुशी के लिए .
हो अंधेरों से लड़ने की हिम्मत अगर ,
एक दीपक बहुत रोशनी के लिए .
*********
जिन्दगी का गीत गाती लौ .
दर्द में भी मुस्कुराती लौ .
दीप के संघर्ष की गाथा ,
कह रही है टिमटिमाती लौ
********
हमारे दिल में क्या है ये किसी से कह नहीं सकते .
व्यथा जो मिल रही है वो मगर हम सह नहीं सकते .
हमारे प्यार को समझो न समझो आप की मर्जी .
मगर ये जान लो हम आपके बिन रह नहीं सकते
+++++++++
तुम्हारे बिन अकेली ज़िंदगी खैरात लगती है .
कंटीला दिन लगे नागिन-सी मुझको रात लगती है .
तुम्हारे साथ बीते उन पलों की याद की खुशबू ,
मेरे जीवन की सबसे कीमती सौगात लगती है .
++++++++++
ग़ज़ल के एक रिसाले-सी तुम्हारी याद आती है .
अँधेरे में उजाले-सी तुम्हारी याद आती है .
इबादत का बड़ा ही पाक एक अहसास जागता है ,
किसी मस्जिद-शिवाले-सी तुम्हारी याद आती है .
+++++++++++
मधुर भावों के कोई तार हिल जाएँ तो मत कहना .
नयन को इन्द्रधनुषी स्वप्न मिल जाएँ तो मत कहना .
यकीनन प्यार ये मेरा किसी दिन रंग लाएगा ,
तुम्हारे मन में भी कुछ फूल खिल जाएँ तो मत कहना .
++++++++++++
कोई आतंक रचता है कोई कोहराम लिखता है .
जिसे देखो वही नफरत का बस पैगाम लिखता है .
सृजन के छंद लिखता ही नहीं अब रहनुमा कोई ,
व्यथा के गीत ही केवल वतन के नाम लिखता है .
++++++++++
नहीं अब तक किया वो सब करूँगा आप की खातिर .
हर इक झूठी रिवायत से लडूंगा आप की खातिर .
मेरे जीने का मकसद आप है बस आप हैं केवल ,
जिया हूँ आप की खातिर मरुंगा आप की खातिर .
++++++++++
नयी उम्मीद देता है नया विश्वास देता है .
मेरे मन को निरंतर खुशनुमा अहसास देता है .
मेरे जीवन में अब तक सिर्फ सूनापन था पतझर का ,
तुम्हारा साथ फूलों से भरा मधुमास देता है .
++++++++++
जिधर देखिये जंग ही जंग है अब .
चढ़ा सब प नफरत क ही रंग है अब .
मुहब्बत का अहसास दिखता नहीं है ,
नज़रिया सभी का हुआ तंग है अब .
++++++++++
कभी विध्वंस के आगे न अपना सर झुकायेंगे .
सृजन के गीत गाये हैं सृजन के गीत गायेंगे .
अँधेरे हैं सघन पर हौसले भी कम नहीं मेरे ,
ज़माने में सदा उम्मीद का सूरज उगाएंगे .
++++++++++
ज़माने की हकीकत को बताने आ गया हूँ मैं .
नयी उम्मीद का दीपक जलाने आ गया हूँ मैं .
बजाओ दोस्तों स्वागत में मेरे तालियाँ जमकर ,
यहाँ इस मंच पर कविता सुनाने आ गया हूँ मैं .
++++++++++
देखिये मझधार में अपना सफीना हो गया .
आज के हालात में दुश्वार जीना हो गया .
स्वार्थ के माहौल में चालें घिनौनी चल रहा ,
आदमी इस दौर का कितना कमीना हो गया .
++++++++++
तेरी उल्फत की नगरी में हमारा अब बसेरा है .
हमारे पास जो कुछ है वो सब कुछ सिर्फ तेरा है .
तेरे रहमो-करम पर हैं हमारी अब सभी खुशियाँ ,
नज़र डाले उजाला है नज़र फेरे अँधेरा है .
++++++++++
हमारी भावनाओं में छुपा हर मर्म भारत है .
ये तन जिसको समर्पित है वो प्यारा कर्म भारत है .
समाहित है हमारे मन की हर पहचान इसमें ही ,
हमारी जाति भारत है हमारा धर्म भारत है .
++++++++++
उम्र भर जिसको संभालूं ऐसा खुशखत लिख गया .
कुछ नहीं है झूठ सब कुछ तो हकीकत लिख गया .
है तभी से रूह में दीवानगी छाई हुई ,
वो हमारे दिल के कागज़ पर मुहब्बत लिख गया .
++++++++++
जिन्हें प्यार देना था डर दे रहे हैं .
कड़ी धूप अब तो शज़र दे रहे हैं .
ये आया है कैसी तरक्की का मौसम ,
मसीहा हैं जो वो ज़हर दे रहे हैं .
++++++++++
सतत लक्ष्य की ओर चलना न आया .
गिरे किन्तु गिरकर संभलना न आया .
ज़माना बदलने में हैं व्यस्त लेकिन ,
हमें खुद को अब तक बदलना न आया .
++++++++++
हथेली पे सरसों उगाने चले हैं .
असंभव को संभव बनाने चलें हैं .
जो खुद की बुराई नहीं देख पाए ,
बुराई को जड़ से मिटाने चलें हैं .
++++++++++
जिन्दगी को बोझ जैसा समझकर ढोते नहीं हैं .
लड़ रहे कठिनाइयों से समय को खोते नहीं हैं .
आदमी बस वही हैं जो दर्द में रोते नहीं हैं .
आंसुओं से ज़िन्दगी के प्रश्न हल होते नहीं हैं .

**********
करेगा जोड़ने की बात पर अलगाव ही देगा .
प्रगति के नाम पर हमको महज ठहराव ही देगा .
करेगा भाषणों में जिक्र मरहम का सदा लेकिन ,
हमारे देश का नेता हमें बस घाव ही देगा .
*************
अभी आँखों में सपनों का खुला आकाश बाकी है .
अभी तो प्रीति का खुद पर अटल विश्वास बाकी है .
न विचलित हो तू मेरे मन शरद के दिन अगर बीते ,
बचाकर रख हर एक ख्वाहिश अभी मधुमास बाकी है .
***********
सूर्य के हाथों पराजित रात होगी .
बस उजालों की यहाँ बरसात होगी .
रक्त से अभिषेक होगा जब धरा का ,
तब नए युग की कहीं शुरुआत होगी .
*******
आस ही खास है जिन्दगी के लिए .
तृप्ति आधार मन की खुशी के लिए .
हो अंधेरों से लड़ने की हिम्मत अगर ,
एक दीपक बहुत रोशनी के लिए .
*********
जिन्दगी का गीत गाती लौ .
दर्द में भी मुस्कुराती लौ .
दीप के संघर्ष की गाथा ,
कह रही है टिमटिमाती लौ .