" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

बुधवार, 9 जनवरी 2013

सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन 'अज्ञेय' के मुक्तक



मैं कब कहता हूँ जग मेरी दुर्धर गति के अनुकूल बने
मैं कब कहता हूँ जीवन-मरू नंदन-कानन का फूल बने
काँटा कठोर है; तीखा है, उसमे उसकी मर्यादा है
मैं कब कहता हूँ वह घटकर प्रान्तर का ओछा फूल बने

मैं कब कहता हूँ युद्ध करूँ तो मुझे न तीखी चोट मिले
मैं कब कहता हूँ प्यार करूँ तो मुझे प्राप्ति की ओट मिले 
मैं कब कहता हूँ विजय करूँ, मेरा ऊँचा प्रासाद बने 
या पात्र जगत की श्रध्दा की, मेरी धुंधली सी याद बने 

पथ मेरा रहे प्रशस्त सदा, क्यों विकल करे ये चाह मुझे 
नेतृत्व न मेरा छीन जाए, क्यों इसकी हो परवाह मुझे 
मैं प्रस्तुत हूँ, चाहे मिट्टी जनपद की धुल बने 
फिर उसका कण-कण भी, मेरा गतिरोधक शूल बने 

अपने जीवन का रस देकर, जिसको यत्नों से पाला है 
क्या वहां केवल अवसाद-मलिन झरते आँसू की माला है?
वे रोगी होंगे प्रेम जिन्हें अनुभव-रस का कटु प्याला है
वे मुर्दे होंगे प्रेम जिन्हें सम्मोहनकारी हाला है 

मैंने विदग्ध हो जान लिया, अंतिम रहस्य पहचान लिया
मैंने आहुति बनकर देखा, यह प्रेम यज्ञ की ज्वाला है 
मैं कहता हूँ मैं बढ़ता हूँ, मैं नव की चोटी चढ़ता हूँ 
कुचला जाकर भी धूलि-सा, आंधी-सा और उमड़ता हूँ 

मेरा जीवन ललकार बने, असफ़लता ही असिधार बने 
इस निर्मम रण में पग-पग का रुकना ही मेरा वार बने 
भव सारा तुझको हो स्वाहा, सब कुछ तपकर अंगार बने 
तेरी पुकार सा दुर्निवार, मेरा यह नीरव प्यार बने