" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2013

उम्मीद फ़ाज़ली


१.
संग जब आईना दिखाता है
तेशा क्या क्या नज़र चुराता है

सिलसिला प्यास का बताता है
प्यास दरिया कहाँ बुझाता है

रैग-ज़रों में जैसे तपती धूप
यूँ भी उस का ख़याल आता है

सुन रहा हूँ ख़िराम-ए-उम्र की चाप
अक्स आवाज़ बनता जाता है

वो भी क्या शख़्स है के पास आ कर
फ़ासले दूर तक बिछाता है


२.
कब तलक प्यास के सहरा में झुलसते जायें
अब ये बादल जो उठे हैं तो बरसते जायें


कौन बतलाये तुम्हें कैसे वो मौसम हैं कि जो
मुझसे ही दूर रहें मुझ में ही बसते जायें

हाये क्या लोग ये आबाद हुये हैं मुझ में
प्यार के लफ़्ज़ लिखें लहजे से डसते जायें

आईना देखूँ तो इक चेहरे के बे-रन्ग नुक़ूश
एक नादीद्दा-सी ज़ंजीर में कसते जायें

जुज़ मुहब्बत किसे आया है मयस्सर उम्मीद
ऐसा लम्हा कि जिधर सदियों के रस्ते जायें