" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

रविवार, 17 फ़रवरी 2013

नसीम अजमल


1.

इक समन्दर सा गिरा था मुझ में ।
फिर बहोत शोर हुआ था मुझ में ।

रास्ते सारे ही मानूस से थे
इक फ़कत मैं ही नया था मुझ में ।

ख़ाक और ख़ून में नहलाया हुआ
कब से इक शख़्स पड़ा था मुझ में ।

बर्फ़ की तह में लरज़ती हुई लाश
ऐसा मंज़र भी छुपा था मुझ में ।

था कोई मुझमें जो था मुझसे हक़ीर
और कोई मुझसे बड़ा था मुझ में ।

उसने क्यों छोड़ दिया ख़ाना-ए-दिल
नक़्श-ए-हर-लम्स हरा था मुझ में ।

मैं समझता था जिसे जान-ए-नफ़स
वो बहुत दूर खड़ा था मुझ में ।

मैं भी तस्वीर सा चस्पाँ था कहीं
सानेहा ये भी हुआ था मुझ में ।

रक़्स करते हुए तारों का हुजूम
ये ख़ज़ाना भी गड़ा था मुझ में ।

आसमाँ खौफ़ से तकता था मुझे
क्या कोई उससे बड़ा था मुझ में ।


2.
जुदा ख़ुद से होता हुआ सामने ।
ऐसा मंज़र के जैसे ख़ुदा सामने ।

फूल महका हुआ दिल में इम्कान का
और समंदर लहकता हुआ सामने ।

तन-बदन में सितारे उतरते हुए
रास्ता इक दहकता हुआ सामने ।

सानेहा इक नज़र से गुज़रता हुआ
एक मज़र बिछड़ता हुआ सामने ।

फिर अंधेरा नज़र में चमकता हुआ
फिर उभरता हुआ सर मेरा सामने ।

हाँ, निकालो मेरि जान सूरज कोई
वो देखो है काली घटा सामने ।

मैं तो अपना ही क़द पार कर न सका
आ गया कोई मुझसे बड़ा सामने ।

सामने टूटी-फूटी सदा का खंडर
दूर गहराई में इक ख़ला सामने ।

आसमाँ सर में फैलाव लेता हुआ
इक सिमटती हुई सी दुआ सामने ।

सब्ज़ जितने शजर थे वो कटते रहे
क्या बताएँ कि क्या-क्या हुआ सामने ।

न है धूप कोई परों के परे
न ख़ंजर चमकता हुआ सामने ।

ज़िंदगी एक मौज-ए-फ़ना का सुरूर
सर-बसर एक मौज-ए-हवा सामने ।

ये वही शख़्स है! क्या वही शख़्स है ?
वो जो आया था हँसता हुआ सामने ।

हादिसा जाने क्या उसके अन्दर हुआ
आज ‘अजमल’ है चुप-चुप खड़ा सामने ।


3.
आ मेरि जान कभी प्यार की पहचान में आ ।
तू अगर शोला है तो दीदा-ए-हैरान में आ ।

मुस्कुराता हुआ तू चाँद सितारों से निकल
और हँसता हुआ भूले से कभी जान में आ ।

तश्नगी ठहरी बुझाना तो बयाबाँ पे बरसा
गोद में माँ की उतर, धरती के पिस्तान में आ ।

दश्त-ए-वहशत से मेरि इस क़दर आसाँ न गुज़र
छोड़ आँखों को मेरि, दस्त-ओ-गिरेबान में आ ।

क़तरा-क़तरा मेरि आँखों से मेरे दिल में उतर
रफ़्ता-रफ़्ता मेरे सीने से मेरि जान मॆं आ ।

शोरिश-ए-जाँ से मेरि ऐसे न कतरा के गुज़र
मेरी साँसों का मज़ा ले, मेरे हैजान में आ ।

बर्ग-ए-आवारा पे ही लिख दे हिकायत अपनी
आ मेरि जान कभी हर्फ़-ए-परेशान में आ ।

देख ले अपनी ख़ुदाई का तमाशा ख़ुद ही
आस्माँ वाले कभी पैकर-ए-इंसान में आ ।


4.
कोई आहट न कोई डगर सामने ।
एक अक्स-ए-सफ़र सरबसर सामने ।

आसमाँ पर लहू गुल बिखरता हुआ
और उभरता हुआ मेरा सर सामने ।

वो अकेला हज़ारों से लड़ता रहा
जंग होती रहे रात भर सामने ।

नन्हीं मुन्नी दुआओं का हासिल है क्या
लुट गया सारा रख़्त-ए-सफ़र सामने ।

टूट कर सारे मंज़र बिखरने लगे
बेतहाशा उड़े बाम-ओ-दर सामने ।

यक-ब-यक सारा जंगल सिमटने लगा
हुए ज़ेर-ए-ज़मीं सब शजर सामने ।

कश्तियाँ टूट कर सब किनारे लगीं
कैसे आसेब का है सफ़र सामने ।

कोई अवतार तो इस ज़मीं पर मिले
आए कोई तो पैग़ाम्बर सामाने ।

फ़ासला मेरे पैरों में मंज़िल का है
वर्ना रहता कहाँ ये सफ़र सामने ।

उससे बिछड़े हुए एक मुद्दत हुई
फिर भी रहता है वो सरबसर सामने ।

टुकड़े-टुकड़े बदन, रक़्स करता हुआ
इक ज़रा सा उधर, बाम पर, सामने ।

इक झलक सब्ज़ मिट्टी की आँखों में बस
शोला-शोला शफ़क़, लम्हा भर सामने ।

सर पे बूढ़ा गगन कब से रखा हुआ
रक़्स-ए-शम्स-ओ-क़मर आँख भर सामने ।

कोई मुझमें मुझे क़ैद करता हुआ
फेंक कर ये लाल-ओ-गोहर सामने ।

क्या करूँ मेरा मन था ख़लाओं में गुम
वो दिखाता रहा सब हुनर सामने ।

सीना-सीना सफर, ये तिलिस्म-ए-हुनर
देख ‘अजमल’ है रफ़्तार भर सामने ।