" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

सोमवार, 25 मार्च 2013

सैफ़ जुल्फी



१.

अब क्या गिला करें की मुक़द्दर में कुछ न था।
हम गोता-ज़न हुए तो समंदर में कुछ न था।
दीवाना कर गई तेरी तस्वीर की कशिश,
चूमा जो पास जाके तो पैकर में कुछ न था।
अपने लहू की आग हमें चाटती रही,
अपने बदन का ज़ह्र था, सागर में कुछ न था।
यारो, वो बांकपन से तराशा हुआ बदन,
फ़नकार का ख़याल था, पत्थर में कुछ न था।
धरती हिली तो शहर ज़मीं-बोस हो गया,
देखा जो आँख खोलके, पल भर में कुछ न था।
वो रतजगे, वो जश्न जो बस्ती की जान थे,
यूँ सो गए कि जैसे किसी घर में कुछ न था।
जुल्फी हमें तो जुरअते परवाज़ ले उड़ी,
वरना हमारे ज़ख्म-जादा पर में कुछ न था।