" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

बुधवार, 27 मार्च 2013

सलाहुद्दीन परवेज़


१.
(नज्म)

मेरी खुशियाँ, मेरी झोली, मेरे अरमां धूल हैं
चाँदनी के देस में बीमार मेरा ज़ह्र है
जिसके हाथों में गुलाबी रंग हो पकडो उसे
जिसकी झीलों में शफक की ताज़गी हो
उसकी आँखें छीन लो
मेरी खुशियाँ, मेरी झोली, मेरे अरमां धूल हैं

जाओ अब मेरा तरन्नुम
रेत की तारीकियों में डाल दो
सारी नज्में, सारी गज़लें
दास्तानें, अनगिनत प्यारी किताबें फाड दो
क्योंकि मैंने याद के सीने पे एक दिन लिख दिया
जाने उन आंखों में कैसी शाम थी, नम ज़िन्दगी
सादा कापी पर कई शक्लें बनाकर सो गई
मेरे कमरे से हवा मुझको उड़ाकर ले गई
घर के आँगन से तेरी बातों की मेहँदी उड़ गई
जाने उन आंखों में कैसी शाम थी।