" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

गुरुवार, 7 मार्च 2013

हसन अकबर कमाल



१.

दूध जैसा झाग, लहरें, रेत, प्यारी सीपियाँ।
कैसा चुनती फिर रही हैं मोतियों सी लड़कियाँ।
बाग़ में बच्चों के गिर्दो-पेश मंडलाती हैं यूँ
जैसे अपना, अपना क़ातिल ढूँढती हों तितलियाँ।
वो मुझे खुशियाँ न दे और मेरी आँखें नम न हों,
है ये पैमा ज़िन्दगी के और मेरे दरमियाँ।
बामो-दर उनके हवा किस प्यार से छूती रही,
चाँदनी की गोद में जब सो रही थीं बस्तियाँ।
कल यही बच्चे समंदर को मुकाबिल पायेंगे,
आज तैराते हैं जो कागज़ की नन्ही कश्तियाँ।
घूमना पहरों घने महके हुए बन में कमाल।
वापसी में देखना अपने ही क़दमों के निशाँ।