" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

मंगलवार, 30 अप्रैल 2013

मसऊद अनवर



१.


रात आई है बलाओं से रिहाई देगी।
अब न दीवार न ज़ंजीर दिखायी देगी।
वक़्त गुज़रा है, पे मौसम नहीं बदला यारो,
ऐसी गर्दिश है ज़मीं ख़ुद भी दुहाई देगी।
ये धुंधलका सा जो है इसको गनीमत जानो,
देखना फिर कोई सूरत न सुझाई देगी।
दिल जो टूटेगा तो इकतरफा तमाशा होगा,
कितने आईनों में ये शक्ल दिखायी देगी।
साथ के घर में बड़ा शोर है बरपा अनवर,
कोई आएगा तो दस्तक न सुनाई देगी।