" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

मंगलवार, 2 अप्रैल 2013

सफ़दर हाशमी



१.

रस्सी पर लटके कपडों को सुखा रही थी धूप
चाची पीछे आँगन में जा फटक रही थी सूप
गैया पीपल की छैयां में चबा रही थी घास
झबरू कुत्ता प्यार से लेटा हुआ था उसके पास

राज मिस्त्री जी हौदी पर पोत रहे थे गारा
उसके बाद उन्हें करना था छज्जा ठीक हमारा
अम्मा दीदी को संग लेकर गई थीं राशन लाने
आते में खुत्रू मोची से जूते थे सिलवाने
तभी अचानक आसमान पर काले बादल आए
भीगी हवा के झोंके अपने पीछे-पीछे लाये
सबसे पहले शुरू हुई कुछ टप-टप बूंदाबांदी
फिर आई घनघोर गरजती बारिश के संग आंधी

मंगलू धोबी बाहर लपका चाची भागी अन्दर
गैया उठकर खड़ी हो गई, झबरा भागा भीतर
राज मिस्त्री ने गारे पर ढक दी फ़ौरन टाट
और हौदी पर औंधी कर दी टूटी-फूटी खाट
हो गए चौडम-चौडा सारे धूप में सूखे कपड़े
इधर उधर उड़ते फिरते थे मंगलू कैसे पकड़े
चाची ने खिड़की दरवाज़े बंद कर दिए सारे
पलंग के नीचे जा लेटी, बिजली के डर के मारे
झबरू ऊंचे सुर में भौंका, गाय लगी रंभाने
हौदी बेचारी कीचड़ में हो गई दाने-दाने
अम्मा दीदी आयीं दौडी सिर पर रक्खे झोले
जल्दी-जल्दी राशन के फिर सभी लिफाफे खोले

सबने बारिश को कोसा और आँख भी खूब दिखायी
पर हम नाचे बारिश में और मौज भी खूब मनाई
मैदानों में भागे-दौडे, मारीं बहुत छलांगें
तब ही वापस घर लौटे जब थक गयीं दोनों टांगें