" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

मंगलवार, 14 मई 2013

अर्जुन कवि के दोहे


अर्जुन अनपढ़ आदमी पढ्यौ न काहू ज्ञान ।
मैंने तो दुनिया पढ़ी जन-मन लिखूँ निदान ।।1।।

ना कोऊ मानव बुरौ ब्रासत लाख बलाय।
जो हिन्दू ईसा मियाँ भेद अनेक दिखाय ।।2।।

बस्यौ आदमी में नहीं ब्रासत में सैतान ।
अर्जुन सब मिल मारिये बचै जगत इन्सान ।।3।।

कुदरत की कारीगरी चलता सकल जहान ।
सब दुनिया वा की बनी को का करै बखान ।।4।।

रोटी तू छोटी नहीं तो से बड़ौ न कोय ।
राम नाम तो में बिकै छोड़ैं सन्त न तोय ।।5।।

हिन्दू तौ हिन्दू जनै मुस्लिम मुस्लिम जान ।
ना कोऊ मानव जनै है गौ बाँझ जहान ।।6।।

राज मजब विद्या धनै घिस गे चारों बाँट ।
मनख न पूरा तुल सका एक-एक से आँट ।।7।।

राज मजब विद्या धनै ऊँचे बेईमान ।
भोजन वस्त्र मकान दे पद नीचौ ईमान ।।8।।

राजा सिंह समान है चीता मजहब ज्ञान ।
धन बिल्ली-सा छल करै विद्या बन्दर जान ।।9।।

प्राणदान शक्ती रखै अर्जुन एक किसान ।
राज मजब विद्या धनै हैं सब धूरि समान ।।10।।