" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

सोमवार, 6 मई 2013

दिनेश रघुवंशी के मुक्तक



  • १.
    हर इक इंसान को इक दिन मौहब्बत आजमाती है
    किसी से रूठ जाती है किसी पर मुस्कुराती है
    भला इंसान की तकदीर का ये खेल है कैसा
    किसी का कुछ नहीं जाता किसी की जान जाती है

    २.

    अगर दिल दे दिया तो फिर न कोई जुस्तजू रखना
    अगर हो जुस्तजू तो मत किसी के रुबरू रखना
    मौहब्बत हर कदम पर इम्तिहानों से गुजरती है
    मौहब्बत करने वाले तू भी इसकी आबरू रखना
    ३.


    दिलों में कितनी चाहत थी हमें कहना नहीं आया
    सितम तो खूबसूरत था हमें सहना नहीं आया
    वो बीते कल की बातें आज दोहराने से क्या हांसिल
    सनम दरिया थे हम दोनों मगर बहना नहीं आया

    ४.

    मेरे अहसास को तूने किसी काबिल नहीं समझा
    धड़कता है जो मुझमें तूने मेरा दिल नहीं समझा
    मुझे तुझसे शिकायत है तो बस इतनी शिकायत है
    मुझे बस रास्ता समझा मुझे मंजिल नहीं समझा
    ५. 

    कभी ये सोचता हूँ काश तू उल्फ़त समझ लेता
    कभी ये सोचता हूँ प्यार की कीमत समझ लेता
    मेरी किस्मत तो जैसी थी शिकायत ही नहीं लेकिन
    तेरी किस्मत नहीं थी तू मेरी चाहत समझ लेता

    ६.

    फ़कत बादल की तरह से बिखरना चाहता था बस
    मुककदर ही तेरे हाथों संवरना चाहता था बस
    मेरे होठों पे दुनिया ने बहुत खामोशीयाँ रख दीं
    घड़ी भर ही मैं तुझसे बात करना चाहता था बस
    ७. 

    मिलन के पल जो आये तो बहुत सी दूरियाँ रख दीं
    उजाले मांगे तो तकदीर में तारीकियाँ रख दीं
    कभी जब भी मेरा ये मन हुआ खामोशियाँ तोड़ूँ
    मेरे होठों पे आकर के किसी ने उंगलियाँ रख दीं

    ८.

    भुलाना चाहता हूँ और तेरी याद आती है
    भुलाने की हर इक कोशिश यूं ही बेकार जाती है
    भुला दी हैं बहुत सी बात बीते वक्त ने लेकिन
    तेरी पायल की रुनझुन तो मुझे अक्सर सताती है
    ९. 

    तेरी जुल्फ़ों के साये से निकलना कौन चाहेगा
    तेरे आगोश में गिरकर संभलना कौन चाहेगा
    लकीरों में मेरे हाथों की तेरा नाम लिक्खा है
    भला किस्मत के लिक्खे को बदलना कौन चाहेगा


    १०.

    मुझे डर है कहीं तन्हाई से अपनी न डर जाये
    मुझे डर है कहीं वो टूटकर के ना बिखर जाये
    खुदा मेरी दुआओं में असर इतना तो रख लेना
    अगर वो डूबना चाहे तो दरिया ही उतर जाये
    ११.


    निराले रंग जीवन के अजब दुनिया का मेला है
    यहाँ हर आदमी केवल समय के हाथ खेला है
    भले ही भीड़ है अपनों की लेकिन भीड़ में रहकर
    यहाँ मैं भी अकेला हूँ वहाँ तू भी अकेला है


    १२.


    कभी सोचूं मुझे क्यूं दर्द की जागीर बक्शी है
    कभी सोचूं मुझे ये किसलिए तकदीर बक्शी है
    सुना है इम्तिहाँ होते हैं केवल खास लोगों के
    खुदा ने खास समझा तो मुझे ये पीर बख्शी है
    १३.


    किसी तक दिल की बातें जो कभी पहूँचा नही पाया
    जो खुद को तीरगी से रोशनी में ला नहीं पाया
    भला वो जिंदगी की उलझनें सुलझायेगा कैसे
    किसी की जुल्फ़ जो बिखरी हुई सुलझा नहीं पाया


    १४.


    कजा आती है पल – पल, जिंदगी मुश्किल से आती है
    अगर हंसना भी चाहें तो, हंसी मुश्किल से आती है
    उसी का नाम होठों पर उसी को है दुआ दिल से
    जिसे शायद हमारी याद भी मुश्किल से आती है
    १५.


    यूं छुपकर रोज मिलने का बहाना खूबसूरत है
    नजर मिलते ही नजरों का चुराना खूबसूरत है
    नहीं कुछ भी नहीं, कुछ भी नहीं, कुछ भी नहीं फिर तो
    तुम्हारा साथ जब तक है, जमाना खूबसूरत है


    १६.

    फ़िजा भी खूबसूरत है, सनम भी खूबसूरत है
    सितम भी खूबसूरत है करम भी खूबसूरत है
    करिश्माई निगाहों के करिश्मों का भी क्या कहना
    हकीकत खूबसूरत है भरम भी खूबसूरत है
    १७.


    • सवेरा होने से पहले अँधेरा खूब होता है
      मुक़द्दर जगता है जगने से पहले खूब सोता है
      ज़रा सी इक ख़ुशी मिलती है, मिलती है, मगर उस पर
      ये दिल हँसता है तो हंसने से पहले खूब रोता है



      १८.


      • यकीं आये नहीं तुमको लेकिन हां चली जाती
        मुझे लगता है ये तो ख़ामाखा चली जाती
        तरीका और कुछ भी तो नहीं जिंदा रहने का
        तुम्हे गर दिल नहीं देता तो मेरी जा चली जाती