" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

सोमवार, 13 मई 2013

चंद्रसेन विराट के दोहे


इतनी ही थी हैसियत, नहीं भक्ति में फेर।
सबके हाथों में है कमल, मेरे हाथ कनेर।।

लोक ग्रहण कर ले अगर, सिर्फ पंक्तियां चार।
मेरा कवि कृत-कृत्य हो, मानूं मैं आभार।।

रहता है भीतर छिपा, प्रतिभा का अंगार। 
करना होता आपको, अपना आविष्कार।।

सक्षम ही स्वीकार है, अक्षम अस्वीकार।। 
चुनता सदा सुयोग्य को, यह जग अति अनुदार।।

धुनकी हुई कपास के, फाहों सा हिमपात।
श्वेत स्वच्छ चादर बिछी, कांप रहा है गात।।

प्रश्नपत्र है जिंदगी, जस का तस स्वीकार्य।
कुछ भी वैकल्पिक नहीं, सबका सब अनिवार्य।।

देख ने भाते भीतरी, स्वयं विकृति-विस्तार।
करते केवल साहसी, निज से साक्षात्कार।

बहुत यत्न से हो गया, तन का तो तादात्म्य। 
मन न नियंत्रित हो सका, यह मन का माहात्म्य।

जीव जगत से ना पृथक, ब्रह्म नियामक शक्ति।
यह विशिष्टाद्वैत है, दर्शन की अभिव्यक्ति।।

नायक धीरोदात्त से, धीर-ललित अति प्रेय।
रूप, प्रणय, माधुर्य की, समरसता का श्रेय।।

उदयन वीणा छेड़ते, स्वर होते साकार।
वासवदत्ता ही बजी, बन वीणा का तार।।