" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

सोमवार, 13 मई 2013

विजेंद्र शर्मा के दोहे



सरहद से आया नहीं , होली पे क्यूँ लाल !
माँ की आँखें रंग से , करती रही सवाल !!

सच करना था झूठ को, बोले कितने झूठ !
जो मैं सच ही बोलता , आफत जाती छूट !!

इक सच बोला और फिर , देखा ऐसा हाल !
कुछ ने नज़रें फेर ली,कुछ की आँखें लाल !!

उल्टे - सीधे काफ़िये , ना ढंग का रदीफ़ !
कह दी सच्ची बात तो , शायर को तकलीफ़ !!

तपने से परहेज़ है , छपने का है चाव !
जो दिख लावे आइना ,उस पे खावे ताव !!

ये मेरे महबूब का ,कैसा अजब स्वभाव !
कभी जतावे प्यार तो ,कभी दिखावे ताव !!

पहरेदारी मुल्क़ की , सौंप हमारे हाथ !
पूरा भारत चैन से , सोये सारी रात !!

बिटिया बिन हो जायगा , मरघट ये संसार !
खिलने दे इस फूल को , तोड़ इसे ना यार !!

बिन बिटिया सब सून है , इतना तो तूं सोच !
तितली है ये बाग़ की ,पर ना इसके नोच !!

महबूबा सी है लगे , सरहद बनी लकीर !
नज़र उठी इस और तो , सीना देंगे चीर !!

कहाँ गई वो लोरियां , कहाँ गये वो चाव !
बच्चों ने भी फाड़ दी , काग़ज़ वाली नाव !!

दोहा है ना काव्य है ,बस छपने की होड़ !
पाठक पढ़कर श्राप दे ,ऐसा लिखना छोड़ !!

ज़रा -ज़रा सी बात पे ,आवे उसको ताव !
शायद ताज़ा हो गया , कोइ पुराना घाव !!

सरहद के ही नाम है , जीवन सारा यार !
सीमाएँ महफूज़ है , हम जो पहरेदार !!

सरहद ही बस तीर्थ है , सरहद ही है धाम !
सरहद पे ही काट दी , हमने उमर तमाम !!

दौलत की आग़ोश में , हुए खूब मशहूर !
पर अपनों से हो गये , यारों कौसों दूर !!

हिन्दी -उर्दू बैठ के , एक साथ में रोय
आशिक़ दोनों के बड़े , माँग भरे ना कोय 

माह सितम्बर आय है ,माह सितम्बर जाय 
हिन्दी हिन्दी तो करें ,कोई ना अपनाय 

या तो कह दो प्यार है , या कह दो तक़रार !
छोड़ो ना मझदार में , आर करो या पार !!

होंठ लगे जब काँपने, करने में इज़हार !
तब नैनों ने ये कहा ,मुझको तुमसे प्यार !!