" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

शनिवार, 14 सितंबर 2013

एकता नाहर


विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित, अनेकों बार कवि सम्मलेन में प्रस्तुति,ग़ज़ल और कविताओं के अलावा कहानियां और कॉलम लिखने में भी रूचि है.सम्पर्क-ektanhr315@gmail.com

1.
रात की ख़ामोशी इस बात की गवाही है,
शायद आने वाली फिर एक नयी तबाही है!!

सहमा-सा हर मंजर सनसनी-सी फैली हुई,
सुनसान रास्तों पर शायद कोई आतंक का राही है!!

यह सीमा पार के हमले हैं या अपनों के हैं विद्रोह,
सारी रात कश्मीर ने इस सोच में बितायी है!!

जंग-ए-मैदान में पल-पल छलनी होते सीने,
मौत के सामानों ने कैसी होड़ मचाई है!!

‘एकता' अब तुमको भी हथियार उठाने होंगे,
अब फीकी पड़ने लगी तुम्हारी कलम की स्याही है!!

2.

ना बुराई के अँधेरों से डरा कीजिये,
मन को सदा रोशन रखा कीजिये !!

कभी न बन सकेगा सूरज रात का मेहमां,
बगावत न दीपों की लौ से किया कीजिये !!

मिल जायेंगे हर चेहरे में छिपे दशानन,
यूँ खुले आम न चेहरों से अनावरण किया कीजिये !!

हो जाये किसी गरीब के घर तक भी उजाला,
दिए इस तरह घर में जला कर रखा कीजिये !!

होना चाहते हो अगर मर्यादा पुरुषोत्तम राम,
तो न उसूलों के परिंदे को कभी रिहा कीजिये !!

फिर आई इसी उमंग के साथ दीवाली,
हर बुराई को अपने दिल से विदा कीजिये !!



3.
तन्हा नहीं कटते ज़िन्दगी के रास्ते,
हमसफ़र किसी को तो बनाना चाहिए था !!

शब् के अँधेरे गहरे थे बहुत,
मेरे लिए रौशनी किसी को तो जलाना चाहिए था !!

रोते हुए दिल की बात वो समझ ना सके,
शायद आँखों को भी आँसू गिराना चाहिए था !!

यूँ ही ऐतवार कर बेठे एक अजनबी पर हम,
एक बार तो उस शख्स को आजमाना चाहिए था !!