" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

शुक्रवार, 6 अप्रैल 2018

डॉ.प्रमोद सोनवानी " पुष्प "



परिचय: 
नाम:- डॉ.प्रमोद सोनवानी " पुष्प "
आत्मज:- पिता-श्री इंद्रजीत सिंह सोनवानी (प्रधान अध्यापक)
माता:- श्रीमती फुलेश्वरी सोनवानी
जन्म तिथि:- 25-06-1985, रायगढ़ जिले के तमनार,पड़ीगाँव ग्राम में
शिक्षा:- स्नातक(कला), स्नातकोत्तर (हिन्दी साहित्य), डी.लिट्(हिन्दी), एस.एस.डी.ए.सी.(कम्प्यूटर विज्ञान)
विधा:- कविता ,कहानी, लघुकथा , समीक्षा

पुरुस्कार:- नन्हें सम्राट - नई दिल्ली द्वारा " श्रेष्ठ मेघ काव्य पुरुस्कार "
नवभारत बिलासपुर द्वारा " श्रेष्ठ शैक्षिक व पर्यावरण काव्य पुरुस्कार "

सम्मान:- अखिल भारतीय साहित्य सम्मान , अंतर्राष्ट्रीय लघुकथा सम्मान, सृजन सम्मान, उत्कृष्ट साहित्य सम्मान

प्रकाशित कृति:- नील गगन में उड़ जाऊँ ( काव्य संग्रह )
प्रकाशनार्थ कृति:- नाना जी के आँगन में ( काव्य संग्रह ),
अजब सलोना गाँव ( काव्य संग्रह )

अन्य:- अब तक देश की महत्वपूर्ण साहित्य नन्हें सम्राट,बालहंस,बालभारती,बालवाटिका,देवपुत्र , बालसाहित्य समीक्षा, बालमन, नन्हीं दुनियाँ, बालप्रहरी, बाल कल्पना कुञ्ज,साहित्य अमृत,सूत्रपात,वेब दुनियाँ,दैनिक भास्कर एवं नवभारत में शताधिक रचनाएँ प्रकाशित और आकाशवाणी केन्द्र रायगढ़,रायपुर ,नागपुर , नेंट स्वर,आदिवासी स्वर एवं अम्बिकापुर से प्रसारण ।

संपर्क सूत्र :- " श्री फूलेंद्र साहित्य निकेतन "
मु.पो.-पड़ीगाँव, तह.-तमनार,जिला-रायगढ़ (छ.ग.)
पिन:- 496107
बातचीत:- 97547-93710
ई-मेल:- Pramod pushp10@gmail. com

==================================================
ग़ज़लें 

" मेहन्दी लगानें से पहले "
 १. 
कुछ निशानी दे अब जानें से पहले ,
चुन ले कुछ यादें भूल जानें से पहले ।
कैसे जियेंगे कुछ तदबीर बता जा ,
जी भर देख ले तस्वीर जलानें से पहले ।।1।।

तुझे भुलाना इतना आसान नहीं लगता ।
सोंच ले तू भी हाथ छुड़ाने से पहले ।।2।।

गिरे आँसू तो जमीं बंजर न बन जाये ।
पी जा अश्क आँसू गिर जानें के पहले ।।3।।

रंग गहरा हो जाये गोरे हाथों में मेरी ।
हाथों को देख मेहन्दी लगानें से पहले ।।4।।

२.

" दर्द ज्यादा है "
-------------------
प्यार का पहला अक्षर ही आधा है ,
प्यार को पानें का किसका इरादा है ।
उसे शायद नहीं मालूम त्याग है प्यार ,
कोशिश कर भूल जायेगा मेरा वादा है ।।1।।

क्यों तड़प जाता है यादों में उसके ।
समझ जायेगा तू इस खेल में नादाँ है ।।2।।

पलट-पलट कर देख चुके कई बार हमनें ।
समझना मुश्किल हर पन्नें सादा है ।।3।।

क्या कहुँ "पुष्प" रो पड़ेंगे ओ भी आज ।
कलम में स्याही कम -दर्द ज्यादा है ।।4।।

३. 

" फिर मिलेंगे कहीं "
------------------------
गुलशन खिंजा बन गई तेरे जानें के बाद ,
हम रोये बहुत तूमको भुलानें के बाद ।
तेरी आरजू रही तुझे भूल जायेंगे हम ,
तू भी रो पड़ी मेरे हाथ छुड़ाने के बाद ।।1।।

तुझे रोक न सके हम ये कैसी बेबसी थी ।
तू देखती रही मुड़ के दूर जानें के बाद ।।2।।

दिल को धड़कन से जुदा देख नहीं सकते ।
आँसू टपक पड़ा वही पलक उठानें के बाद ।।3।।

तू जिंदा रहे इन यादों के ताबीर में " पुष्प " ।
फिर मिलेंगे कहीं इस जमानें के बाद ।।4।।

शनिवार, 17 अक्तूबर 2015

अवधेश प्रताप सिंह भदौरिया 'अनुराग'

परिचय:
अवधेश सिंह भदौरिया'अनुराग'
जन्म स्थान -मैनपुरी(उ.प्र .)
जन्म-२८ जुलाई १९७४ ,संपर्क-09555548249, Email: ask180507@gmail.com
गतिविधियाँ-वर्तमान में कर्म स्थली -नई दिल्ली, मैं अपने विद्यार्थी जीवन से ही साहित्य की विभिन्न गतिविधियों में संलग्न रहा|आगरा वि.वि.से लेखा शास्त्र एवं हिंदी साहित्य में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की ,फिल्म निर्देशन व पटकथा लेखन में व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त की |सर्वप्रथम मुंबई को अपना कार्यक्षेत्र बनाया |लेखक-निर्देशक श्री गुलजार के साथ सहायक फिल्म निर्देशक के रूप में कार्य किया|पटकथा लेखन में श्री कमलेश्वर के साथ टी.वी.के लिए कार्य कर दिल्ली वापस लौट आया|तत्पश्चात दिल्ली दूरदर्शन में दूरदर्शन निदेशक डॉ.जॉन चर्चिल,श्री प्रेमचंद्र आर्या के साथ कार्य किया|साथ ही साथ आकाशवाणी आगरा,दिल्ली,नजिवाबाद केन्द्रों से काव्यपाठ एवं नाटक,एकांकी के लिए कार्य किया |२००२ से अपना व्यवसाय करते हुए साहित्यक कार्यक्रमों में मेहमान वक्ता-प्रवक्ता एवं दिग्दर्शक के रूप में स्वतंत्र रूप से सेवारत हूँ। 
==============================
१. 
खुली आँखों से मैं ,जब-जब शहर को देखता हूँ,
बुझे से लोग मिले हैं ,कई टूटे हुए घर देखता हूँ ।

बड़ी रफ़्तार से आगे निकलते,जो लोग अक्सर,
उन्हें भी भीड़ में तन्हा ,अधिकतर देखता हूँ ।

पलटता वक्त जब भी लौटता ,है प्रश्न लेकर ,
हैं चिपके सबके चेहरों पर,मौन!उत्तर देखता हूँ ।

हाल पूछा , चूमकर जलते चिरागों की हथेली,
कहा तो कुछ नहीं उसने , मैं हँसता, देखता हूँ ।

नदी जब भी किनारा छोड़ती है ,सूखती जाती ,
मगर उसका सफ़र हूँ मैं ,रोज़ बेहतर देखता हूँ ।

बदन पर रोशनी तो ढेर सारी,पर जिस्म नंगा है ,
संभालता, आदमी हूँ ,बेख़ौफ़ मंजर देखता हूँ ।

फूल ,गुलदस्ते ,चमेली,रातरानी ,मोगरा भी है ,
ज़मीं’अनुराग’सूखी,घर-घर को बंज़र देखता हूँ ।
२. 

शब्दों की मर्यादा में ,कुछ कहने का साहस करना,े
ऐसा लगता है अंजुली में ,लहराता सागर भरना ।

बस्ती-बस्ती,बच्चा-बच्चा,पत्ता-पत्ता मन भी टूटा है ,
मुश्किल है पर ,मुमकिन उम्मीदों को आँगन करना ।

चटक रहा है सख्त धरातल,सदियों से दोहन के बाद,
लौट रहे हैं फिर सत्-पथ पे,शुब-शुभ परिवर्तन करना ।

सभी दिशाओं में जाना है ,लेकर के विस्तार ,विकल्प ,
रूठे,टूटे , पीछे छूटे है उन सबका संशोधन करना ।

योगिक सा मन,तपस्वी बन ,सबल सारथी आया है,
स्वच्छ,समर्पण,दोष-मुक्त हो,उस पथ का निर्देशन करना ।

विश्व चकित हो सोख रहा ,भारत की गरिमा के रंग ,
उठो सजग हो ,प्राण प्रतिष्ठित ,करके मन अर्पण करना ।

शब्दों की मर्यादा में ,कुछ कहने का साहस करना,े
ऐसा लगता है अंजुली में ,लहराता सागर भरना ।
३. 
ज़िन्दगी ने दिया,फिर दगा दोस्तों,
कोई अपना रहा ना , सगा दोस्तों ।

खो गए रास्ते ,हैं मज़िलें गुमशुदा ,
पाँव फिर हो गए ,बेवफा दोस्तों ।

यूँ तराशा,चटख के बिखरने लगा,
आदमीं तो मिट्टी का,पुतला दोस्तों ।

ठीक मंझधार में छोड़कर नाखुदा,
साथ पतवार भी ले गया दोस्तों ।

अब तो हर सांस ही इम्तहाँ आपका,
ज़हर पी कर चली है ,हवा दोस्तों ।

अब दुआ रंग लाएगी ,सब देखना ,
काम आती नहीं है ,जब दबा दोस्तों ।

मैं उमर भर उन्हें ,प्यार करता रहा ,
जिनसे इक भी दफा,ना मिला दोस्तों ।

दिल कई मर्तबा ,टूट कर जुड़ गया ,
मन दोवारा नहीं ,मिल सका दोस्तों ।

जाने ‘अनुराग’कैसी लगन लग गई,
आज तक इस अगन में जला दोस्तों ।
४. 
टूटकर जब भी, संभलता आदमी ,
और भी ज्यादा ,निखरता आदमी ।

मंजिलों के बाद भी, जो रास्ते हैं ,
उनसे भी आगे, निकलता आदमी ।

तोड़कर चट्टान,जब दरिया चला ,
देख!सागर सा,पिघलता आदमी|

है इरादों की बहुत, लम्बी उड़ान ,
जीतकर अक्सर,गुजरता आदमी|


मिल गई ,बुझते चिरागों को हवा,
लो रौशनी लेकर,चहकता आदमी|

बंद दरबाजों पे,दस्तक फिर हुई ,
खौफ से डरता,सिमटता आदमी|

तोड़कर चट्टान,जब दरिया चला ,
देख!सागर सा,पिघलता आदमी|

है इरादों की बहुत, लम्बी उड़ान ,
जीतकर अक्सर,गुजरता आदमी|

मिल गई ,बुझते चिरागों को हवा,
लो रौशनी लेकर,चहकता आदमी|

बंद दरबाजों पे,दस्तक फिर हुई ,
खौफ से डरता,सिमटता आदमी|
५. 
आंकलन मत कीजिये ,इस वक़्त उस उन्माद का ,
ये सीधा-सीधा, मेरे और तेरे ,बीच का संवाद था ।

तोड़कर सागर किनारा ,घुस गया है बस्तियों में ,
पी गया जो ज़िन्दगी को ,ये कौन सा तूफ़ान था ।

जागरण का दौर है मत सो,अन्धेरा ढूंढ ना ले
मशवरा है आपको, मानना ना मानना ईमान था ।

हो गई जर्जर इमारत ,खंडहर रोशन गुलिस्ताँ,
गर्दिशों के दौर थे ‘कल’हर आदमी बदनाम था ।

महफिले चलती रहीं ,चारो तरफ शानो-शबाब ,
हम तो उनसे भी मिले,जो अपने घर मेहमान था
६. 
आरजू कद से,बड़ी हो जाएगी ,
क्या पता था,ख़ुशी खो जायेगी ।

आइना पत्थर, से जब टकराएगा,
अक्श की शै,सौ गुनी हो जायेगी ।

जल रहे है पांव ,थोड़ा सब्र करले ,
दरख्तों में भी,छांव घनी हो जायेगी ।

बर्फ सी जिद को पिघलना चाहिए ,
धूप जब भी, गुनगुनी हो जायेगी ।

पास थे,उनकी कद्र कुछ भी ना थी,
फासले में कीमते ,सौगुनी हो जायेंगी ।


जब भी कहना हो,तो रहना होश में ,
बात सच की ,अनसुनी हो जायेगी ।

ये अँधेरे ,ये घुटन ,अब तोड़ भी दो,
वरना! पागल ,ज़िन्दगी हो जायेगी ।

घर से बाहर पांव ,अब रख दीजिये ,
आपसे परचित ,ज़मीं हो जायेगी ।

मोड़ लो वापस,ग़मों के सिलसिले ,
मुस्कुराती आँख में ,नमीं हो जाएगी ।

७.
 आने वाला वक्त अगर, दोहराएगा बीते लम्हें ,
उन्हें पकड़ के रख लूंगा ,जो छूट गए पीछे लम्हें ।

रफ्ता-रफ्ता उमींदों की, चादर जब बुन जायेगी ,
थोडा रूककर के सुस्तायेंगे ,यादों के मीठे लम्हें ।

माँ की उंगली पकड़ ठुमक कर ,चला करेंगे इतराके ,
आयेंगे कल बचपन की ,चंचलता के नीचे लम्हें ।

अभी वक्त है ठहर जरा तू,बतिया ले मन की बातें ,
ना जाने फिर चुप्पी ओढ़े ,आ जाएँ पीछे लम्हें ।

नवयोवन की भाषा सचमुच ,इतनी ज्यादा बदल गई ,
समझ नहीं पाते माँ-बाबा ,बच्चों के खीचे लम्हें ।

नैतिकता औ संस्कार को ,निगल रहा है परिवर्तन ,
हमने जो अरमानो से ,जी भर कर के सींचे लम्हें ।
८. 
मंजिल तो थी मेरे सामने ,पर रहा भटकाती रही ,
यूँ ही जिंदगी को ढूंढने में,जिंदगी जाती रही |

ख्वाव में होंठों से उसने ,मेरी पलकों को छुआ ,
जागने पर दो घडी तक, बेकली जाती रही |

तुम गए मौसम गए ,गए मस्तियों के दौर भी ,
श्याम के हाथों से मनो,बांसुरी जाती रही |

आरजूएं हो गईं कद से बड़ी ,मैं क्या करूँ ?
जब मुकम्बल जिंदगी हो,वो घडी जाती रही |

ये बदलता दौर है,तू कोई भी दावा ना कर ,
आप से गैरत ,हवा से ताजगी जाती रही |

न पता-कोई ठिकाना ,दर-ब-दर खानाबदोश ,
पांव के नीचे से अक्सर ही ,ज़मीं जाती रही |

वक्क्त के दामन से लिपटे सुर्ख-स्याह फलसफा ,
हम उजालों से मिले तो ,रौशनी जाती रही |

आजकल ‘अनुराग है बस एक आवारा धुआं ,
वक्त से उम्मीद ,सांसों से नमीं जाती रही ।
९.
 इस पिघलते ह्रदय में,है मिलन की आस कैसी ?
बह रहा मन अश्रु बनके ,फिर नयन में प्यास कैसी?

मौन मन उलझा उदासी की भवंर में अनवरत ,
फिर है ‘जुवां ‘आहों की ,पदचाप ,कैसी ?

कोई छेड़े स्वर, विरह की तान वीणा बेसुरी ,
छटपटाती,व्यथित ,व्याकुल ,गूंजती आवाज कैसी ।

फूल-कलियाँ रूठकर ,मंमुन्द एकाकी भ्रमर,
गुनगुनाहट ,गुन्जनों की हो गयी चुपचाप कैसी ?

चांदनी बिखरी धवल चादर ,धरातल की छटा ,
ठंडी-ठंडी वायु तन से, जहर रही है आग कैसी?

हैं सभी बंधन शिथिल ,बेबस प्रणय के ग्गेत हैं ,
चकित उन्मादित लहर में ,जग रही है रात कैसी ?

मन मुकुर में भी वही प्रतिबिम्ब ,मानहु शेष हैं ,
ये है ह्रदय की व्यक्तिगत ,बुनुयाद कैसी ।

भाव सहमे और मन की भावना भयभीत है ,
शशीकला की छवि छटा ,चितकी हुई है उदास कैसी ?

घोर तम,घनघोर तम ,घनश्याम मय ,घन-दामिनी ,
कोयलों की कूंक कटु ,काक वाक् मिठास कैसी ?

१०. 
दर्द में डूब गए,आंसुओं में बह निकले ,
दिल जो पिघला ,तो समंदर निकले |

बेवफा ‘साँस’मगर,एतबार सदियों का ,
हाँ यही सोच के ,घर से सिकंदर निकले|

माइने रोज नए गूंथती,कतरा-कतरा सीती,
ज़िन्दगी काश!नए-दौर का सफर निकले |

टूटकर आप बिखरते हैं ,या संवर जाते हैं,
जिसने हालात संभाले,वो मुकद्दर निकले|

जब भी दिखते हैं आइनों में, दरकते चेहरे ,
बद्दुआ लग गयी एहवाब,सितमगर निकले|

बख्शते आप’नहीं’सांस,घुटन क्यों होती ,
बेबजह ज़िन्दगी है,लोग बेखबर निकले |

आप अल्फाज तराशेंगे,जुबां पर जब भी,
लफ़्ज-आवाज सुनो,दोनों हमसफर निकले|
११.
 आंकलन मत कीजिये ,इस वक़्त उस उन्माद का ,
ये सीधा-सीधा, मेरे और तेरे ,बीच का संवाद था ।

तोड़कर सागर किनारा ,घुस गया है बस्तियों में ,
पी गया जो ज़िन्दगी को ,ये कौन सा तूफ़ान था ।

जागरण का दौर है मत सो,अन्धेरा ढूंढ ना ले
मशवरा है आपको, मानना ना मानना ईमान था ।

हो गई जर्जर इमारत ,खंडहर रोशन गुलिस्ताँ,
गर्दिशों के दौर थे ‘कल’हर आदमी बदनाम था ।

महफिले चलती रहीं ,चारो तरफ शानो-शबाब ,
हम तो उनसे भी मिले,जो अपने घर मेहमान था
१२.
 रात थक कर सो चुकी,मैं जागता हूँ भोर तक ,
है मेरी खामोशियों का,ये सफ़र उस शोर तक ।

लम्हां-लम्हां जोड़कर ,जीनी पड़ी जो जिंदगी ,
क्या हुआ हासिल तुम्हे ,यूँ वक़्त मेरा तोड़कर ।

लटके रहे ,रिश्ते सलीबों पे, मगर हम उम्रभर,
थे अँधेरे हमसफ़र ,उस रोशनी के छोर तक ।

जल रहा था मन मगर ,बेचैन, आँखों में नमीं ।
ये साँस ही उम्मीद बन,ले चली उस मोड़ तक ।

हवाएं रुख बदलती हैं तो ,मौसम भी बदलता ,
हम मदद लेकर चलें,इस वक़्त हर कमजोर तक ।

‘अनुराग’ पुल बन जाइये,मिल जायेंगे दोनों किनारे,
प्रेम के ये गीत गूंजे,घर,नदी,सागर,सदी के मोड़ तक। 
१३.
 मेरे इखित्यार में तो है ,मगर हांसिल नहीं है ,
सफर भी,रास्ता भी है ,मगर मंजिल नहीं है|

महज़ दस्तूर है ,मिलना-मिलाना ,दोस्ताना ,
बदलते दौर में ,कोई यकीं काबिल नहीं है ।

वो इक दिन लौट आएंगे ,मेरी उम्मीद उनसे ,
फ़कत गुमराह है,वो आदमी पागल नहीं है ।
१४. 
तू रूठेगा अगर,हम भी मनाना सीख लेंगे,
ज़मीं है प्यार में मौजूद ,अब दलदल नहीं है ।

उठा लो नाज़ तुम उनके,जो दिल से तुम्हारा हो,
चलेंगे साथ हम मिलकर ,क़दम बोझिल नहीं हैं ।

यूँ ही कोशिश रही जारी ,दिलों को जीत लायेंगे ,
हमें उनको जगाना है ,जहाँ हलचल नहीं है ।

ना हो पतवार गर’अनुराग’,तो मुश्किल भँवर है,
लहर के साथ हो लेना ,अगर साहिल नहीं है 
१५. 
जलता हुआ चिराग,हवा ने बुझा दिया ,
झूठा नकाब सच के,बयाँ पर चढ़ा दिया |

हम पूजते रहे जिसे ,भगवान् की तरह ,
कम्बखत ने साँसों पे,पहरा बिठा दिया|

कल तक ख्याल था,जिन्हें मेरे सुकून से ,
उसने ही मेरी रहा को,मुश्किल बना दिया|

मैं जानता हूँ आप भी,गुमराह हैं मगर ,
भटके हुए को फिर भी,रास्ता बता दिया |

मैं ज़िन्दगी से सामना,करने लगा हूँ जब,
तो ज़िन्दगी ने सचका,आइना दिखा दिया |

क्यों आजमा रहे हैं आप ,उस गरीब को ,
हालात ने चाह जिसे ,पत्थर बना दिया |

बड़ी दूर तक चलेंगे ,उजाले में हमसफ़र ,
‘अनुराग’ने ये सोचके ही, घर जला दिया|