" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

बुधवार, 20 फ़रवरी 2013

विवेक भटनागर


१.
खिड़की-रोशनदान फेंक दो
ऐसा सब सामान फेंक दो

किसी बंद कमरे के अंदर
हवादार दालान फेंक दो

अच्छे से जीने की खातिर
बचा-खुचा सम्मान फेंक दो

बेहतर होगा जुबां फेंक दो
या फिर अपने कान फेंक दो

महरूम सभी चीजों से होकर
खालीपन का भान फेंक दो


२.
क्यों भयानक हैं इरादे उंगलियों के
खलबली है गांव में कठपुतलियों के

और रंगों के लिए रंगींतबीयत
गिरगिटों ने पर तराशे तितलियों के

देखिये पक्षी तड़ित चालक हुए तो
हल नहीं होंगे मसाइल बिजलियों के

चांद की आंखों में डोरे सुर्ख तो थे
कम न थे तेवर सुहानी बदलियों के

आज गांवों ने किए सौदे शहर से
नथनियों के, पायलों के, हंसलियों के


३.

वो आशियानों में घर रखेंगे
कि आसमानों के पर रखेंगे?


तुम्हारे कदमों के नीचे काँटे
तुम्हारे कदमों पे सर रखेंगे


तुम्हारा साया दगा करेगा
जो रास्ते में शजर रखेंगे


कि तुम भी शायद मुकर ही जाओ
हम आँखें अश्कों से तर रखेंगे


इधर है सोफा उधर है टीवी
ईमानदारी किधर रखेंगे?


तुम अपने पैरों को बाँध रक्खो
तुम्हारे आगे सफर रखेंगे


जो खुद ही खबरों की सुर्खियां हैं
वो क्या हमारी खबर रखेंगे।


४.

अपना खुद से सामना है
इसलिए मन अनमना है


सब तनावों की यही जड़
खुद का खुद से भागना है


इसको भी तुम जीत मानो
खुद से कैसा हारना है


अपनी नजरों में गिरा जो
उसको फिर क्या मारना है


डूब जाने को सतह तक
लोग कहते साधना है।


५.

यह नहीं देखा कि कंधों पर खड़ा है
लोग यह समझे कि वो सबसे बड़ा है


पुण्य के आकाश की सीमा नहीं है
पाप जल्दी भरने वाला इक घड़ा है


भूख क्यों हर रोज लगती है, न जाने
इस गरीबी का ये मुश्किल आँकड़ा है


देवता को हम भला क्यों पूजते हैं
पूजिए, मजदूर का ये फावड़ा है


साँप मिलते हैं विषैले उस जगह पर
जिस जगह पर भी किसी का धन गड़ा है


यह वही है जो कि कंधों पर खड़ा था
भीड़ के पैरों तले कुचला पड़ा है।