" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

सोमवार, 22 अप्रैल 2013

अहमद मुश्ताक़

अहमद मुश्ताक़. जन्म स्थान, लाहौर, पंजाब, पाकिस्तान. कुछ प्रमुख कृतियाँ, कुल्लियत-ए-अहमद मुश्ताक़, हिज़्र की रात का सितारा
१.

तेरे दीवाने हर रंग रहे, तेरे ध्यान की जोत जगाये हुए।
कभी निथरे-सुथरे कपडों में, कभी अंग भभूत रमाये हुए।

उस राह से छुप-छुप कर गुज़री, रुत सब्ज़ सुनहरे फूलों की,
जिस राह पे तुम कभी निकले थे, घबराए हुए, शरमाये हुए।

अब तक है वही आलम दिल का, वही रंगे-शफ़क़, वही तेज़ हवा,
वही सारा मंज़र जादू का, मेरे नैन-से-नैन मिलाये हुए।

चेहरे पे चमक, आंखों में हया, लब गर्म, खुनक छब, नर्म नवा,
जिन्हें इतने सुकून में देखा था, वही आज मिले घबराए हुए।

हमने 'मुश्ताक' युंही खोला, यादों की किताबे-मुक़द्दस को,
कुछ कागज़ निकले खस्ता से, कुछ फूल मिले मुरझाये हुए।


२.
कहाँ की गूँज दिले-नातवाँ में रहती है।
कि थरथरी सी अजब जिस्मो-जाँ में रहती है।

मज़ा तो ये है कि वो ख़ुद तो है नये घर में,
और उसकी याद पुराने मकाँ में रहती है।

अगरचे उससे मेरी बेतकल्लुफ़ी है बहोत,
झिजक सी एक मगर दर्मियाँ में रहती है।

पता तो फ़स्ले-गुलो-लाला का नहीं मालूम,
सुना है कुर्बे-दयारे-खिज़ाँ में रहती है।

मैं कितना वहम करूँ लेकिन इक शुआए-यकीं,
कहीं नवाहे-दिले - बद-गुमाँ में रहती है।

हज़ार जान खपाता रहूँ मगर फिर भी,
कमी सी कुछ मेरे तर्जे-बयाँ में रहती है।