" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

रविवार, 28 अप्रैल 2013

सबा ज़फ़र


१.

बिखरता फूल जैसे शाख पर अच्छा नहीं लगता।
मुहब्बत में कोई भी उम्र भर अच्छा नहीं लगता।
मैं उसको सोचता क्यों हूँ अगर नुदरत नहीं उसमें,
मैं उसको देखता क्यों हूँ अगर अच्छा नहीं लगता।
वो जिसकी दिलकशी में गर्क रहना चाहता हूँ मैं,
वही मंज़र मुझे बारे-दिगर अच्छा नहीं लगता।
किसी सूरत तअल्लुक़ की मसाफ़त तय तो करनी है,
मुझे मालूम है तुझको सफर अच्छा नहीं लगता।
हज़ार आवारगी हो बेठिकाना ज़िन्दगी क्या है,
वो इन्सां ही नहीं है जिसको घर अच्छा नहीं लगता।
वो चाहे फ़स्ल पक जाने पे सारे खेत चुग जाएँ,
परिंदों को करूँ बे-बालो-पर, अच्छा नहीं लगता।
वसीला रास्ते का छोड़कर मंज़िल नहीं मिलती,
खुदा अच्छा लगे क्या जब बशर अच्छा नहीं लगता।