" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

रविवार, 12 मई 2013

सौरभ पाण्डेय के दोहे

१.


आप सदा से आप हैं, कहें, कहूँ क्या आप
मौसम रंजन आपको, मुझको मौसम शाप ||1||

चंपा चढ़ी मुँडेर पर, गद-गद हुआ कनेर
झरते हरसिंगार बिन, बचपन हुआ कुबेर ||2||

मौसम की पाती पढ़े, फटी-फटी है आँख
खिड़की-साँकल तौलतीं, उसके रोमिल पाँख ||3||

मेरे मौसम को नहीं, हुआ तत्त्व का बोध
षड्-दर्शन हाँका किये, बना रहा गतिरोध ||4||

फटी बिवाई देख कर, चिंतित दीखी राह
मौसम-मौसम धूल में, पत्थर तोड़े ’आह’ ||5||

झींसी-झीसीं ताप दे, फव्वारे-सी ठंढ
दीखे चुप, दुर्भेद सी, भीतर प्यास प्रचंड ||6||

मौसम पर गर्मी चढ़ी, कसती गाँठें-छोर
स्वप्न स्वेद में भीगते, मींजें नस-नस पोर ||7||

मन की ड्यौढ़ी आर्द्र है, घिरे मेघ घनघोर
प्रेम-पचासा टेरता, मौसम है मुँहजोर ||8||

मुँदे-मुँदे से नैन चुप, अलसायी-सी देह
मौसम बेमन लेपता, उर्वर मन पर रेह ||9||

मन की बंद किताब पर, मौसम धरता धूल
पन्ने-पन्ने याद हैं, तुम अक्षर, तुम फूल ||10||

कामद-पल धनु बाण ज्यों, प्रत्यंचा उत्साह
गर्व अड़ा आखेट को, मद आँखों की राह ||11||

२.


प्रकृति के उद्येश्य और दर्शन के मत एक ।
सुत-कन्या आधार-बल, राखी मध्य विवेक ॥

राखी बस धागा नहीं, उन्नत भाव प्रतीक ।
गर्वीले भाई रखें, बहना को निर्भीक ॥

नाजुक धागा भर नहीं, राखी है विश्वास ।
सात्विकता संदर्भ ले, धर्म-कर्म-सुख-आस ॥

मान रखो, हे माधवा, तारो हर दुख-ताप ।
ज्यौं बाँधे राजा बली, त्यौं मैं बाँधूँ आप ॥

एक बहन कर्णावती, कुँवर हुमायूँ एक ।
मुँहबोली आक्रांत जब, पंथ रहा ना टेक ॥

भाई बल परिवार का, तो बहना शृंगार ।
कठिन समय दुर्दम्य पल, मिलजुल हो उद्धार ॥

रिश्ता सुगम बनाइये, मध्य न आवे देह ।
बेटी-बेटे रत्न दो, दोनों पर सम-स्नेह ॥

छायी हो हरसूँ खुशी, हों रिश्ते मज़बूत ।
घर-घर में किलकारते दीखें बेटी-पूत ॥

राखी भरी कलाइयों के हैं अर्थ सटीक ।
लीक छोड़ भाई चलें, बहना खींचे लीक ॥

नन्हें-नन्हें हाथ में नन्हीं राखी बाँध ।
मुँह मीठा बहना करे - "मेरा भाई चाँद" ॥

बाबू सोचे क्या करूँ, क्या दूँ राखी गिफ़्ट ?
दोनों दीदी के लिये माँ-दादी से लिफ़्ट !!

जबसे बहना जा बसी जहाँ बसे घनश्याम ।
राखी बिना कलाइयाँ तबसे उसके नाम ॥

मेरे मन की मान थी, मन की ईश सुनाम ।
मन से मन को तारती, बहना याद तमाम ॥