" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

सोमवार, 29 जुलाई 2013

डॉ सुरेन्द्र सैनी

IIT Roorkee, Uttrakhand, भारत
(आपका पूर्ण परिचय चाहिए कृपया सम्पर्क करें।)








१. क्या ख़्यालों से खोखला हूँ मैं ?
इन सवालात से घिरा हूँ मैं ||

आज मेरा वजूद क्या कुछ है ?
आईने से ये पूछता हूँ मैं ||
मेरी हस्ती उबर नहीं पाई |
दर्द के बोझ से लदा हूँ मैं ||

ख़ुद से बाहर नहीं निकल पाता |
ख़ुद में सिमटा सा दायरा हूँ मैं ||

अपनी तक़दीर के सितारों में |
इक बुलंदी को ढूंढता हूँ मैं ||

वक़्त एसा भी मैंने देखा है |
ग़र्क़ होने से बस बचा हूँ मैं ||

बिन रुके रोज़ चल रहा अब तक |
आज भी एक फ़ासिला हूँ मैं ||


२. 
मेरी अश्कबार आँखों का जो तू ख़याल करता |
क्यूँ ज़माना फिर ये मुझसे इतने सवाल करता ||

मेरी सोच को परखने का मिला नहीं है मौक़ा |
मैं भी ज़िंदगी में अपनी कुछ तो कमाल करता ||

तू जो मेरे साथ होता मेरा रहनुमा सा बन कर |
मुझे आज आके दुशमन नहीं पायमाल करता ||

किसी फ़ैसले से पहले क्या नहीं था ये मुनासिब |
कुछ तू सवाल करता कुछ मैं सवाल करता ||

कोई साथ में नहीं था जो बढ़ाता रहता हिम्मत |
मैं अकेला ज़िंदगी से कब तक ज़िदाल करता ||

मेरे सर पे हाथ रख कर मेरी चूमता ज़बीं को |
दुनिया में एसे मिल कर कोई तो निहाल करता ||

जो मिला उसी को पाकर मैं तो मुतमैयन रहा हूँ |
ये तो मर्ज़ी है ख़ुदा की कैसे मलाल करता ||


३. 
जब कभी भी ज़िन्दगी की खोल कर देखी किताब |
सफ़हे - सफ़हे का दिखा कर ज़ख़्म तब रोई किताब ||


देख कर नाकामियाँ एसी मेरी तालीम की |
फेंक दी बच्चे ने मेरे एकदम अपनी किताब ||

फेल होने पर मेरा बच्चा जो रोया जार-जार |
मैंने पूछा क्या मियाँ तुमने पढ़ी भी थी किताब ?

जिसमें रक्खे थे किसी के ख़त हिफ़ाज़त से सभी |
वक़्त की दीमक ने कब की चाट ली सारी किताब ||

देखता हूँ जब कभी उलझा किताबों में मिले |
काम की होती नहीं कोई मगर उसकी किताब ||

ज़िन्दगी शायद सँवर जाती मेरी भी कुछ न कुछ |
खोल कर जो देखता माँ-बाप की अच्छी किताब ||

आप जिसको ढूंढते फिरते हो यूँ ही दर - ब - दर |
ज़िन्दगी है अस्ल में वो आपकी असली किताब ||


४. 
ख़त्म क्यों हो न पाई ग़रीबी ?
आज भी है ग़रीबी ग़रीबी ||

आपकी सादगी सादगी है |
सादगी है हमारी ग़रीबी ||

आदमी कुछ भी कर बैठता है |
जब कभी भी सताती ग़रीबी ||

उम्र से लग रहा है वो बूढ़ा |
ओढ़ उसने जो रक्खी ग़रीबी ||

बेटियों की तरफ़ देखता हूँ |
नोचती मुझको मेरी ग़रीबी ||

बात बढ़- बढ़ के सब बोलते हैं |
क्या किसी ने हटा दी ग़रीबी ?

मर गया वो ग़रीबी में आख़िर |
पर न मर पाई उसकी ग़रीबी ||

अपने अख़लाक़ से गिर न जाऊं |
इससे अच्छी है प्यारी ग़रीबी ||

काम आती सियासत में अक्सर |
ये हमारी तुम्हारी ग़रीबी ||


५. 
सख़्त थोड़ी ज़ुबाँ है तो क्या है ?
आदमी वो मगर काम का है ||

देर तक वो मुझे देखता है |
मेरे बारे में क्या सोचता है ?

खोल कर माल देखा तो नकली |
चिपका लेबल बड़े नाम का है ||

झूठ का कर रहा ये दिखावा |
सर ज़मीं तक झुका कर मिला है ||

ज़हर जिसमे हसद का भरा है |
वो किसी को नहीं छोड़ता है ||

साँप तो छेड़ने पर ही काटे |
आदमी हर समय काटता है ||

जान अटकी हुई है उसी में |
बेटा लेकर के बाइक गया है ||

है पडौसी की आदत बुरी ये |
घर से निकलो तभी टोकता है ||

भूलने की अजब उसकी आदत |
नाम बस मेरा ही भूलता है ||


६. 

चाँद तारों की महफ़िल सजी है |
आ भी जाओ तुम्हारी कमी है ||

चाँद की मेज़बानी में पीलो |
चांदनी रात साक़ी बनी है ||

सोचता है मुझे अजनबी हूँ |
उस सितमगर की ये दिल्लगी है ||

उनसे उनकी शिकायत तो कर दी |
या ख़ुदा क्या अजब बेख़ुदी है ||

बाँट दो सब को आकर उजाले |
देखिये हर तरफ तीरगी है ||

जी रहा हूँ मैं फज़्ले ख़ुदा पर |
कुछ दुआओं ने इमदाद की है ||

झूठ किसने उड़ा दी ख़बर ये ?
मैंने कहनी ग़ज़ल छोड़ दी है ||

७.

बेबसी बेकली बेकसी है |
क्या इसी को कहूँ ? जिंदगी है ||

आ गया हूँ मैं ये किस जगह पर |
हर कोई दीखता अजनबी है ||

ठीक से घर अमीरों के बैठो |
इनका सोफा बड़ा कीमती है ||

आँख उससे मिलाना सम्भल के |
वो नज़र का बड़ा पारखी है ||

मैंने बेटी को दी है लियाक़त |
पर पडोसी ने बस कार दी है ||

मेरी क़श्ती को देखा उभरते |
मौज फिर आके टकरा गई है ||

वासना है हवस और वहशत |
नाम इस का ही बस आशक़ी है ||

८.

आजकल लोगों में अपना हो रहा चर्चा बहुत |
लोग दानिशमंद हैं या फिर मैं ही हूँ अच्छा बहुत ||

दिल लगाकर आपसे मैं मुश्किलों में पड़ गया |
लोग कहते हैं की अब मैं उड़ रहा ऊँचा बहुत ||

मेरे नग़में मेरे छोटे पन में दब के रह गए |
वो रिसालों में छपा क्या उसका था रुतबा बहुत ?

अब ज़रा सख़्ती दिखाने का सही पल आगया |
सामने उनके किया हमने अरे सजदा बहुत ||

हैं नहीं यूँ हर किसी से ठीक यें नज़दीकियाँ |
फ़ासला भी बीच में रक्खा करो थोड़ा बहुत ||

तेरे मेरे तेरे बीच में बस एक यही तो फर्क है |
मैं तुझे चाहा बहुत पर तू ने दिल तोडा बहुत ||


८. 

मुठ्ठी में कोई आग छुपा कर तो देखिये |
दिल में किसी दिलबर को बसा कर तो देखिये ||

हमने पिए हैं अश्क़ तो पी लेगे ज़हर भी |
हाथों से अपने आप पिला कर तो देखिये ||

आ जायेगा दातों में पसीना ज़नाब के |
बिगड़े हुए दिलबर को मना कर तो देखिये ||

उम्मीद का दामन कभी छोडूगां मैं नहीं |
चट्टान से जिगर को हिला कर तो देखिये ||

गठरी गु़नाह की कर तो ली तैयार आपने |
कितना है इसमें बोझ उठा कर तो देखिये ?

९.

किस तरफ से इशारे हुए |
आप दुश्मन हमारे हुए ||

मुझको देकर फ़रेब-ए-वफ़ा |
फूल भी तो शरारे हुए ||

छोड़ दी जिसने शर्म -ओ -हया |
उसके रौशन सितारे हुए ||

ज़ीस्त क्या है पता तब चला |
मौत के जब नज़ारे हुए ||

है सियासत में इतना मज़ा |
सारे रिश्तें किनारे हुए ||

१०. 


जो रौनक - ए - महफ़िल थी वो जिस पल चली गई |
उस पल से क़ायनात की हलचल चली गई ||

जाहिद हुए सरकार में शामिल तो देखिये |
हम मैकशों के हाथ से बोतल चली गई ||

ढेरों इनआम मिल गए सय्याद को मगर |
इंसाफ़ मांगती हुई बुलबुल चली गई ||

ग्रंथों में छापी जा रही कौवों की कावं-कावं |
गुमनाम कूकती हुई कोयल चली गई ||

शाम - ओ- सहर सिसक रहीं रोती रही शफ़क़ |
देकर जिन्हें उदासियाँ वो कल चली गई ||

११.

एक था वो हमारा ज़माना |
एक है ये तुम्हारा ज़माना ||

पार हद सब किये जा रहा है |
ज़ुर्म की आज सारा ज़माना ||
मुफ़लिसी में हुआ क्या वो पैदा |
मुफ़लिसी में गुज़ारा ज़माना ||

उसको सूली चढ़ाया गया है |
जिस किसी ने सुधारा ज़माना ||

इसको देखोगे जैसी नज़र से |
देगा वैसा नज़ारा ज़माना ||

आपकी मुस्कुराहट पे करदूं |
मैं निछावर ये सारा ज़माना ||

क्या कभी वो घडी आ सकेगी |
ज़मज़मासंज हो सारा ज़माना ||
१२.  

वादे लेकर के सारे बेकार के |
दर से झोली भर लाये सरकार के ||

मुफ़लिस घर का खा़विन्द तो मजबूर है |
कैसे बेग़म को दे दो पल प्यार के ||

कैसे - कैसे लीडर चुन कर भेजे हैं |
वोटर शायद चूक गए इस बार के ||

होटल जाने पर आमादा बच्चों को |
मैंने समझाया दो थप्पड़ मार के ||

मस्ज़िद कोई टूटी है इस पार यदि |
मंदिर भी तो टूटें हैं उस पार के ||

ख़ुद का हाल - ए - दिल कहना है नादानी |
घर पे जब पहुंचे हो इक बीमार के ||

चारागर ने फल खाना बतलाया है |
पर क्या हैं अब अच्छे फल बाज़ार के ||

१३. 

ज़ख़्म कितने खा चुके उनको गिनाते जाइए ?
और अपने हाल पे आँसूं बहाते जाइए ||

जाते - जाते इक ग़ज़ल हमको सुनाते जाइए |
जिंदगी का सच ज़रा सबको बताते जाइए ||

आज की तहज़ीब है बस रास्ता मिलने के बाद |
रहबरों के नक़्श - ए -पाँ ख़ुद ही मिटाते जाइए ||

इक न इक दिन आपकी सरकार बन ही जायेगी |
वोटरों को बस ज़रा दारु पिलाते जाइए ||

याद क्या कोई करेगा आपकी क़ुर्बानियाँ ?
आप तो बस सर झुकाकर सर कटाते जाइए ||

कान में डाले रुई सरकार बैठी है यहाँ |
बीन अपनी भैंस के आगे बजाते जाइए ||


१४. 

महफ़िलों में आया जाया कीजिये |
कुछ तो लोगों पे भरोसा कीजिये ||

जानते हैं सब हक़ीक़त आपकी |
आप चाहे लाख़ पर्दा कीजिये ||

दूसरों को कोसना आसान है |
ख़ुद के बारे में भी सोचा कीजिये ||

देख फिर किस शान से मिलता है वो ?
प्यार के जज़्बात पैदा कीजिये ||

ख़ारा पानी मय में जायेगा बदल |
यूँ समंदर में न देखा कीजिये ||

१५.

कुछ देखा है ख़ास तुम्हारी आँखों में |
हमने सारी रात गुज़ारी आँखों में ||

सारी क़ायनात नज़र आ जायेगी |
देखो तो इक बार हमारी आँखों में ||

इनका हो बस काम सदा राहत देना |
अच्छी है न आग दुलारी आँखों में ||

किस पंछी को आज जुदा होना होगा ?
लेकर घूमे मौत शिकारी आँखों में ||

धोखा हम हर बार नहीं खा सकतें हैं |
क्यूँ झोके रे धूल मदारी आँखों में ||

१६.

दौर - ए- वहशत हुआ है शुरू |
खाक़ में मिल रही आबरू ||

ज़ीस्त की कर रहा आरज़ू |
मौत के होके मैं रू - ब- रू ||

उड़ गईं इस क़दर धज्जियाँ |
कौन दामन करेगा रफ़ू ?

यूँ तो दुनिया में लाखों हसीं |
पर कहाँ आपसा खू़बरू ?

तेरी नज़रों में मैं कुछ नहीं |
मेरी नज़रों में इक तू हो तू ||

१७.

आबले इक समंदर लिए पावँ में |
तुझको ढूंढा किये शहर में गावँ में ||

तू न पहचाने मुझको अलग बात है |
और सब जानते हैं तेरे गावँ में ||

जिस जगह पर हुआ अपना पहला मिलन |
इक कशिश सी है अनजानी उस ठावँ में ||

उनकी नज़रें बदलती रहीं इस तरह |
जैसे बदले हैं मौसम पहलगावँ में ||

आज उसके वही लोग क़ातिल हुए |
कल जो बैठे थे उस पेड़ की छावँ में ||

लाख़ चाहा संभलना मगर देखिये |
आ गए ज़िन्दगी हम तेरे दावँ में ||

१८. 


इतना हमको दे बता तू ए चमन के बागबाँ |
हर जगह लाशें बिछीं हैं क़ब्र हम खोदे कहाँ ?

रहनुमाँ पत्थर बने हैं गिर रही हैं बिजलियाँ |
ख़ाक़ हमको कर ही देगीं आपकी खामोशियाँ ||

बेवजह हर वक़्त की ये छेड़खानी छोड़ दो |
क्यों मिटाने पर तुले हो क़ौम का नामोनिशाँ ?

बात सच कह दी किसी ने तो वो दुश्मन होगया |
जिस ने कर ली जीहुज़ूरी हो गया वो जाने - जाँ ||

गोश्त रिश्तेदार नोचें ख़ूँ पिए औलाद ये |
ज़ुल्म अपनों के सहे जाती हैं बूढी हड्डियाँ ||

१९. 

समय की आग में जो भी जला है |
उसीकी आँख में इक ज़लज़ला है ||

समय आख़िर किसी का कब टला है ?
यही जीवन मरण का सिलसिला है ||

हमारा मान लेने पर तुला है |
कहाँ का दूध का तू भी धुला है ?
परिंदा आसमाँ में उड़ चला है |
शिकारी साज़िशों में मुब्तला है ||

तुम्हारे शहर के अमृत से अच्छा |
हमारे गावँ का पानी भला है ||

जो दिल से काम लेते हैं उन्हें तो |
सदा ही भावनाओं ने छला है ||
ख़ुदा क्या ख़ुद को भी मैं भूल बैठा | 
अरे ये इश्क़ देखो क्या बला है ||

चुराके दिल दिखाओ पारसाई |
हमें बस आपसे ये ही गिला है ||

मेरी बन्दूक हो कांधा तुम्हारा |
यही तो आज जीने की कला है ||

वफ़ा के नाम पर हम जान देदें |
हमें तो ये विरासत में मिला है ||

मुसलसल लहर टकराती है देखो |
नहीं साहिल हिलाए से हिला है ||

मेरा तो नाम तक भी भूल बैठा |
मगर ग़ैरों से क़ाफ़िर जा मिला है ||


२०. 

लोगों से तू चाहे परदादारी रख |
मुझसे थोड़ी सी तो आपसदारी रख ||

लीक पे चलना तो दुनिया की आदत है |
अपनी कुछ बातें दुनिया से न्यारी रख ||

जिसके घर कल पूरी बोतल पी आया |
उसके ग़म में भी कुछ हिस्सेदारी रख ||

मुझको मेरी तन्हाईं में जीने दे |
ले तू अपने पास ये दुनिया सारी रख ||

हिंदी उर्दू के चक्कर में मत पड़ना |
दिल के यूँ जज़्बात सुनाना जारी रख ||

माना की महबूब रूठ कर चला गया |
तू भी अपने अंदर कुछ ख़ुद्दारी रख ||

घायल हों जज़्बात कभी तो मत डरना |
तू अपनी चाहत का पलड़ा भारी रख ||

हो हंगामा कोई इससे पहले ही |
मैख़ाने से उठने की तैयारी रख ||


२१. 

कहने पर आमादा है कुछ सुनने पर आमादा है |
जैसे तैसे मुझसे वो बस लड़ने पर आमादा है ||

क्या तेरा घर क्या मेरा घर इक दिन तो छीन जायेगा ?
फिर क्यूँ इस बेगाने घर में रहने पर आमादा है ||

डरता हूँ यें घर की बातें दुनिया वाले सुन लेगें |
पर छोटा बच्चा सारा सच कहने पर आमादा है ||

घर की पहली शादी के इस मस्ती वाले आलम में |
दादी क्या परदादी तक भी नचने पर आमादा है ||

मेरा क़ातिल घर के अन्दर छत से दाख़िल क्यूँ होगा ?
जब घायल दरवाज़ा ख़ुद ही खुलने पर आमादा है ||

२२

साज़िश की गई ड्राई डे की अफ़वाहें फैलाने में |
साक़ी भी है मीना भी है सब कुछ मैख़ाने में ||

दीवाने की कैसी ज़िद है जीना है तो पीना है |
दीवाना तो दीवाना है क्या आये समझाने में ?

महगांई के मारों का ग़म मैं भी मिल कर बाँटूगा |
साक़ी बस थोड़ी ही देना तू मेरे पैमाने में ||

बेचारे रिंदों की नज़रें ठहरी हैं दरवाज़े पर |
साक़ी अटका है ट्रेफिक में वक़्त लगेगा आने में ||

अब तो कोई भिजवादे इक बोतल मेरे घर पर ही |
बूढा तन थकता है मैख़ाने तक आने जाने में ||

२३.

अपनी ज़िद पर अड़े हुए हैं क्यूँ ?
बीच रस्ते खड़े हुए हैं क्यूँ ?

हमने मागां तो कुछ नहीं उनसे |
उनके तेवर चढ़े हुए हैं क्यूँ ?

खूब पढ़ -लिख गए मगर फिर भी |
ज़हन इतने सड़े हुए हैं क्यूँ ?

आप आदी हैं छोटी बातों के |
यूँ ही इतने बड़े हुए हैं क्यूँ ?

जिनको आग़ाज नया करना है |
वो ज़मीं पर पड़े हुए हैं क्यूँ ?

२४.

जोश में आकर कभी पत्थर न यूँ फेंका करो |
ख़ुद हो शीशे से भी नाज़ुक यार कुछ सोचा करो ||

धूप में तप कर हमारा तन तो लोहा हो गया |
मोम सा है तन तुम्हारा छाँव में बैठा करो ||

मानता हूँ ज़ुल्म ढाना आपकी फ़ितरत में है |
तुम गिरेबाँ में भी अपने झांक कर देखा करो ||

चापलूसों से घिरे रहना सदा जायज़ नहीं |
साफगो लोगों से भी मिलने कभी आया करो ||

पहले छेड़ा आपने और हमने छेड़ा चिढ गए |
ये कहाँ की है शराफ़त सोच कर छेड़ा करो ?


२५. 

ये ग़ज़ल ही नहीं ज़िन्दगी है |
मेरे ख़ाबों की ये पालकी है ||

दिल तो लफ़्ज़ों से खेले ग़ज़ल के |
बस ग़ज़ल से मिले ताज़गी है ||

जब भी आते हैं ग़म के अन्धेरें |
तब ग़ज़ल ही सुकूँ बाँटती है ||

याद आती है पी की मुसलसल |
बन के साथी ग़ज़ल बैठती है ||

जब जुबां कुछ भी कहना न चाहे |
आगे बढ़ के ग़ज़ल बोलती है ||

मन ही मन में घुटन हो रही हो |
मन की गांठें ग़ज़ल खोलती है ||

आपकी पैंठ कितनी है गहरी ?
आदमी को ग़ज़ल तौलती है ||

सिर्फ दिल ही नहीं भावना की |
भी ग़ज़ल से मिले बानगी है ||

भूख हो प्यास हो मुस्कुरा कर |
ज़िन्दगी की ग़ज़ल खेलती है ||

२६. 


ख्वाहिशें हैं मेरी कम मैं इसीलिए तो अच्छा हूँ |
हर पल रहता ताज़ादम मैं इसीलिए तो अच्छा हूँ ||

उसके सुख में हँसता हूँ उसके दुःख में कर लेता हूँ |
मैं भी अपनी आँखें नम मैं इसीलिए तो अच्छा हूँ ||

और की ख़ुशियों में शामिल हो के बाँटू मैं ख़ुशी |
चिढ नहीं तो कैसा ग़म मैं इसीलिए तो अच्छा हूँ ||

मन की पीड़ा को ग़ज़ल में अक्सर कहता रहता हूँ |
झट आंसू जाते हैं थम मैं इसीलिए तो अच्छा हूँ ||

मुझसे भी हो जाती है तो फिर औरों की गलती पर |
लहजा रक्खूं ख़ास नरम मैं इसीलिए तो अच्छा हूँ ||

२७.

मुस्कुरा कर मिले एक पल |
हो गई नाम उनके ग़ज़ल ||

ज़िन्दगी के उलट फेर में |
वो भी उलझे हुए आजकल ||

आपका हुस्न बाँका सही |
प्यार मेरा मगर है सरल ||

मुश्किलों से न मायूस हो |
ग़ैर - मुमकिन नहीं कोई हल ||

रहबरों के सितम याद कर |
फिर उसी रहगुज़र पे न चल ||

२८. 

आग पानी में लगाने की ज़िद छोड़ भी दो |
हाथ सुरज से मिलाने की ज़िद छोड़ भी दो ||

आँख के हैं न जो अन्धें मगर अख़लाक़ के हैं |
आइना उनको दिखाने की ज़िद छोड़ भी दो ||

अपनी फ़ितरत से वफ़ा के हम हैं शैदाई |
ख़ाक में हमको मिलाने की ज़िद छोड़ भी दो ||

गुस्सा जायज़ है तो फिर जम के निकालो यारो |
ख़ामख़ा उस को पचाने ज़िद छोड़ भी दो ||

जो भी हल्का हुआ दुनिया में वो ऊपर ही उठा |
फ़ालतू बोझ उठाने की ज़िद छोड़ भी दो ||

आपसी बात है मिल बैठ के सुलझा लीजे |
रूठ के औरों पे जाने की ज़िद छोड़ भी दो ||

सैंकड़ों हैं गिलें किस - किस पे फाँसी चढ़ लें ?
पल में यूँ ख़ुद को मिटाने की ज़िद छोड़ भी दो ||


२९. 

कुछ को मिला सब कुछ मगर कुछ जी रहे हैं अभाव में |
यह खो दिया वह पा लिया हर आदमी है तनाव में ||

दो चार तिनकों से फ़क़त इक आशियाँ जो बना लिया |
वो आँधियों की ज़द में है यूँ उड़ न जाए बहाव में ||

मुंसिफ़ की नीयत पर अबस उठते नहीं यें सवाल यूँ |
क्यूँ फ़ैसले देने लगा वो क़ातिलों के दबाव में ?

चुपचाप कोई सह रहा शैतान के ज़ुल्म - ओ - सितम |
उठ्ठा नहीं है एक भी तो हाथ उसके बचाव में ||

जाने कहाँ पर आ गए हम मंजिलों की तलाश में ?
शायद कमी कुछ रह गई थी रास्ते के चुनाव में ||


३०. 

मुझको हाँ सुनने की आदत तुझको ना कहने की आदत |
मेरी अपनी तेरी अपनी है कहने सुनने की आदत ||

सर्दी का मौसम आते ही मुझको दुखदाई लगती है |
मुझको अनदेखा करके उनकी स्वेटर बुनने की आदत ||

झूठी झूठी क़समें खाओ या फिर धोखा देना सीखो |
सच कहना चाहो तो डालो सूली पे चढ़ने की आदत ||

जो कुछ भी करना है अपने बलबूते पर करते जाओ |
यूँ भी लोगों की होती है कामों से बचने की आदत ||

पहले गर्मी में तपने का जज़्बा तो कुछ पैदा करले |
धीरे- धीरे पड़ जाएगी शोलों में रहने की आदत ||

सब की अपनी - अपनी मर्ज़ी अपने ढंग से अपना जीना |
फिर क्यूँ है लोगों को आपस में पर्दा रखने की आदत ?

एसे बन्दे तो अक्सर ही मुश्किल में पड़ते रहते हैं |
जिनको होती है दुनिया के झंझट में पड़ने की आदत ||

अब तो बस मोबाईल पर ही सारी बातें हो जाती हैं |
अब तो सब की छूटी है चिठ्ठी - पत्री लिखने की आदत ||


३१. 

यूँ बागबाँ की खैर जो पूछी कभी होती |
उजड़े शजर की डालियाँ फूलों भरी होती ||

मैं दौड़ कर तुम तक उसी पल आ गया होता |
मुझको अगर जो आपने आवाज़ दी होती ||

वो रहमतों से यूँ तुझे महरूम क्यूँ करता ?
उससे अगर नज़र- ए - इनायत मांग ली होती ||
ये आपसी शिकवे - गिले तो ख़त्म हो जाते |
इक बार हमसे रूबरू जो बात की होती ||

कुछ हम रहे बस बदगुमाँ जो खो दिया मौक़ा |
ये ज़िन्दगी वर्ना सही में ज़िन्दगी होती ||


३२. 

है यहाँ पर भीड़ पर महफ़िल नहीं है |
ये जगह तक़रीर के क़ाबिल नहीं है ||

राबता आपस में क्या क़ायम रहेगा |
याँ के बाशिंदों में उतना दिल नहीं है ||

नेकबख्तों की बनी फ़ेहरिस्त है जो |
नाम उसमें क्यूँ मेरा शामिल नहीं है ?

बेगु़नाहों की हज़ारों हैं दलीलें |
साफ़ नीयत का मगर आदिल नहीं है ||

लोग दावेदारी लेकर आ गए सब |
एक भी इनमें मगर कामिल नहीं है ||

क़ायदा क़ानून सारा जानता है |
आज का इंसान यूँ गा़फ़िल नहीं है ||

बोझ ख़ुद का ख़ुद ही पड़ता है उठाना |
एक भी हामिल हमें हासिल नहीं है ||

३३. 


चार पैसे दान में बस क्या दिए हैं |
शहर भर में पोस्टर टंगवा दिए हैं ||

अब के होगी जीत पक्की ही हमारी |
बस्ती में दारु के ड्रम खुलवा दिए हैं ||

ये बशर जो सच के पर्चे बांटता था |
हाथ इसके आज ही कटवा दिए हैं ||

जब भी पूछा क्या किया है ज़िंदगी में ?
बस ज़रा सा हौले से मुस्का दिए हैं ||

आज आमद है किसी लीडर की शायद |
रास्तों पर फूल जो बिछवा दिए हैं ||

उम्र भर जो बुतपरस्ती से लड़े थे |
हमने उनके बुत भी अब बनवा दिए हैं ||

छाँट कर शातिर से शातिर लोग हमने |
राजधानी में सभी भिजवा दिए हैं ||

कल वही पेपर में टीचर पूछ लेगा |
प्रश्न सारे आज जो समझा दिए हैं ||

साब जब से बन गए फूफा हमारे |
डॉग भी इम्पोर्टेड मंगवा दिए हैं ||

३४. 

सूरत से जाना पहचाना लगता है |
ये क़ातिल होगा क्या एसा लगता है ?

पल - पल गिरगिट जैसा रंग बदलता है |
करतूतों से ये दीवाना लगता है ||

बार - बार ये बिजली हम पर गिरती है |
दुश्मन का इससे याराना लगता है ||
मेरी रूदाद - ए - ग़म पे वो हँसतें हैं |
उनको ये कोरा अफ़साना लगता है ||

अपनी बस्ती में ही क़ातिल रहता हो |
अक्सर क्या इसका अन्दाज़ा लगता है ?


३५. 

जिसे मेरा ही हंसना बोलना अच्छा नहीं लगता |
मुझे भी देख ऐसा दिलरुबा अच्छा नहीं लगता ||

सितमगर हो जफ़ाजू हो ज़माना कुछ कहे लेकिन |
हमारे मुंह से ऐसा तज़किरा अच्छा नहीं लगता ||

नज़र उनकी पे गो हक़ उनका है चाहे जिसे देखें |
मगर गैरों से ऐसा सिलसिला अच्छा नहीं लगता ||

किया है वादा तो फिर कीजिये जी जान से पूरा |
बहाने से किसी को टालना अच्छा नहीं लगता ||

मैं पाबन्दी तो औरों पे लगा सकता नहीं लेकिन |
तुम्हें देखे कोई मेरे सिवा अच्छा नहीं लगता ||

तुम्हारी बेरुख़ी का तुम से शिकवा यूँ नहीं करते |
जवाबन तुम कहोगे फिर गिला अच्छा नहीं लगता ||

वफ़ा तुझ में है या मुझ में चलो ये फ़ैसला कर लें ?
हमें भी झगड़ा ये हर रोज़ का अच्छा नहीं लगता ||