" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

बुधवार, 22 अप्रैल 2015

डॉ सुधेश जी के दोहे

परिचय: हिन्दी के कवि ,आलोचक ,संस्मरण एवं यात्रावृत्तान्त लेखक ,दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में हिन्दी के प़ोफेसर (सेवा निवृत्त ) 
प्रकाशन: दस काव्य संग़ह ,दस आलोचनात्मक पुस्तकें तीन यात्रा वृत्तान्त,,दो संस्मरण संग़ह,एक उपन्यास ,एक आत्म कथा (प्रथम खण्ड ) अंग़ेज़ी में लिखित निबन्ध संग़ह Reflections on Hindi literature (प़काश्य ) उर्दू ,अंग़ेज़ी की चयनित कविताएँ ,निबन्ध हिन्दी में अनूदित , पत्रिकाओं में प्रकाशित ।
सम्पर्क सूत्र३१४ सरल अपार्टमैन्ट्स , द्वारिका , सैक्टर १०, दिल्ली ११००७५ फ़ोन ०९३५०९७४१२० ईमेल drsudhesh@gmail.com
======================================
१. 
हिन्दी सेवा हो रही अंग्रेज़ी में बोल
भूले निज इतिहास पर याद रहा भूगोल ।

जिस को देखो दौड़ता अमरीका की ओर 
, हिन्दी भी अब खींचती उन्हें देश की ओर ।
२. 
अपनी छोटी बात भी लाख टके की बात
दूजा सच्ची बात कह खाये शठ की लात ।

कीकर काँटा जल उठा जब देखा जलजात
खिला पात जो पास में करे घात पर घात ।

मति नीची करनी अधम ओछी उस की बात
ऊँची डाली का सुमन करे गगन से बात ।

कितने पानी में खड़ा मानव या जलजात
उस पल हो जाता प़कट चलती है जब बात ।

कभी बड़ा मालिक रहा सब थे तेरे दास
बहुत मलाई खा चुका अब तो रख उपवास ।

यह बौना गोरखपुरी वह बलिया का जाट
सब हिन्दी को चर रहे क्या बांभन क्या जाट ।

यह चाचा गोरखपुरी वह बनारसी बाप
संसद में इंग्लिश बकैै बाहर हिन्दी जाप । । 

दिल्ली या परदेश में हिन्दी की जय बोल
गंगाजल में पर कभी लेना व्हिस्की घोल ।

दुर्घटना को देख कर सभ्य नागरिक मौन 
पड़े पुलिस के फेर में वक़्त गँवाए कौन ।

अपने अपने लाभ में सब इतने तल्लीन 
ज्यों पोखर में मेंढकी ज्यों नदिया में मीन ।

लिख लिख काग़ज़ रख दिये पढ़ने वाला कौन 
जो पढ़ते सब बुद्धि जन सब ने रक्खा मौन ।

लिख लिंख काग़ज़ धर गए कवि पुंंगव उर चीर 
चिता राख बन उड़ेंगे यमुना गंगा तीर ।

धन बल पशुबल से यहाँ लो सारा जग जीत
सब कुछ मिल जाए मगर मिले न मन का मीत ।

सभी दौड़ते दौड़ में सब कुछ पीछे छोड़ 
निकलेंगे पर अन्त में सब के सब रणछोड़ ।
३. 
काम धाम औ दाम संग खूब कमाया नाम 
पर इतिहासों में नहीं मिला तुम्हारा नाम ।

नाच कूद कर हर जगह खूब कमाया नाम 
बहते पानी पर लिखा मिला तुम्हारा नाम ।

झूठमूठ कोई कहें आप बनें अध्यक्ष 
क़ब्र तोड़ कर प्रकटते महा महिम प्रत्यक्ष । 

काम काम कहते रहे कभी न आए काम
जाप किया निष्काम का निकले रति के काम ।

जन्म मरण हैं दु:ख से तब देनों हैं दु:ख 
विरलों ने मन जीत कर उन्हें बनाया सुक्ख ।

भोगों में ही लीन जो करें त्याग की बात 
सुन सुन कर आवै हँसी यह अनहोनी बात ।

छीना झपटी लूटना है डाकू की रीति 
मिल बाँटें मिल खांय तो यह सज्जन की नीति । 

तन रोगों की खान है मन भावों की खान 
एक थके दूजा उड़ै नापै गगन वितान । 

अब इतनी मारक हुई निजप्रचार की भूख 
कथाकार दुबले हुए गए महाकवि सूख ।

नाम छपे परिचय छपे या पुस्तक छप जाय 
अहोभाग्य जो साथ में फ़ोटो ही छप जाय ।
***********