" हिन्दी काव्य संकलन में आपका स्वागत है "


"इसे समृद्ध करने में अपना सहयोग दें"

सन्देश

मुद्दतें गुज़री तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गये हों तुझे ऐसा भी नहीं
हिन्दी काव्य संकलन में उपल्ब्ध सभी रचनायें उन सभी रचनाकारों/ कवियों के नाम से ही प्रकाशित की गयी है। मेरा यह प्रयास सभी रचनाकारों को अधिक प्रसिद्धि प्रदान करना है न की अपनी। इन महान साहित्यकारों की कृतियाँ अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना ही इस ब्लॉग का मुख्य उद्देश्य है। यदि किसी रचनाकार अथवा वैध स्वामित्व वाले व्यक्ति को "हिन्दी काव्य संकलन" के किसी रचना से कोई आपत्ति हो या कोई सलाह हो तो वह हमें मेल कर सकते हैं। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जायेगी। यदि आप अपने किसी भी रचना को इस पृष्ठ पर प्रकाशित कराना चाहते हों तो आपका स्वागत है। आप अपनी रचनाओं को मेरे दिए हुए पते पर अपने संक्षिप्त परिचय के साथ भेज सकते है या लिंक्स दे सकते हैं। इस ब्लॉग के निरंतर समृद्ध करने और त्रुटिरहित बनाने में सहयोग की अपेक्षा है। आशा है मेरा यह प्रयास पाठकों के लिए लाभकारी होगा.(rajendra651@gmail.com),00971506823693 (UAE)

समर्थक

बुधवार, 24 जुलाई 2013

क्षेत्रपाल शर्मा के गीत

परिचय:
नाम : क्षेत्रपाल शर्मा 
पिता: स्व् लीलाधर शर्मा 
जन्म: ०५-०९-१९५० अलीग़ढ 
शिक्षा:  M.A. English B.A. Honours Hindi with English as main. Joint Director (Retd.)(Official Language) 
सम्पर्क :A-8/29, 3rd floor Sec 15 Rohini ,Delhi 85. ,E.S.I.C. C.I.G.Marg NewDelhi 110002 Mob no. 9711477046 Email kpsharma05@yahoo.co 



१. 
रात रानी को कभी झरते न देखा आपने ॥
सुरभि को गोदी लिए गुमशुम खडी थी शाम से
वह सजीली नयन-धन्वा थी मेरे ही आसपास
क्यों कहे कुछ आप गाफ़िल हो गए तो हो गए
ताल को यूं सूखते - भरते न देखा आपने ॥
दिवस का हर प्रहर सोया रहा है शाख पर ,
दोष मौसम का नहीं
बेल जलकुंभी सी हर ओर अब छतरा गई है ,
जी -जी उठे जजबात तिल -तिल मरते न देखा आपने ॥
जो सुमन थे बिखरा दिए चंदेर में ,अंधेर में
सूरते हाल में मकसद मेरा जीना यहां
क्या भला औ क्या बुरा ये आपका है मामला
रात रानी को कभी झरते न देखा आपने ॥

2.
साठे मन पर मौसम की मार I
जीत आपकी हम गए हार II
फूल हो , तितली हो या हो अवतार,
बोल हैँ कि रिमझिम- सी प्यारी झनकार,
चितवन है, भावोँ की भाषा श्रृगार,
टोना है , टमना है , जादू हथियार
शिकवोँ से सराबोर , मोहक मनुहार I
जीत आपकी.... II
फूलौँ से लदगद मेँ उलझ-उलझ जाएँ
गीली-सी पगडँडी पर मेघा हरषाएँ
चेहरे पर इंद्र- धनु
गुजरे पल , क्षण-प्रतिक्षण एसे तरसाएँ
कहने को बाकी क्या ! इत्ता‌सा प्यार I
जीत आपकी ....


3.पद 

हलधर , ठेके पर रहियो जाइ l l
हल और बैल बिक गए , बाकी खेत रहेंगे बिकाइ l l
नेता -प्रधान देश को कहते उलट , कृषी प्रधान,
हुए भगोडे कारीगर सब , शहर परे भैराइ ll
मीरासी अब मीर कहावें , सब चालीसा गाइ,
गौरा पंत " शिवानी" को है ? पूछें कहा बताइ !
बरसत लछमी ठेकन पर , सरसुति बड़ी लजाइ,
बिना श्रम, छिरकत खुशबू सब , कहौ करौ का जाइ ll
सीख बड़ेन की नहिं सुहावे , देवें गाल बजाइ ,
हे प्रभु! ये रस्ते पर आवें , मारग देव सुझाइ ll